EssaytoNibandh.com

If you Looking for Best Essay and Nibandh website with Hindi and English Language than EssayToNibandh.com is always Best for You.

Wednesday, February 12, 2020

February 12, 2020

Essay on Tree 150 word in hindi | EssayToNibandh.com

Essay on Tree 150 word in hindi

पेड़ों के कारण ही मनुष्य धरती पर अपना जीवन संभव कर पाया, और अपना विकास इतने आगे तक बढ़ा पाया। पेड़ मनुष्य की आधारभूत आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए अपने संसाधन उपलब्ध कराता है। पेड़ों से मनुष्य बहुत सारे कच्चे माल प्राप्त करता है, जिसे वह संसाधित करके अपने अपना विकास करता है। लेकिन अपने लालच में मनुष्य लगातार पेड़ों की कटाई करते गया, और इस धरती पर अपने जीवन की संभावना को कम करते गया।
पेड़ों के नष्ट हो जाने के कारण वातावरण का संतुलन पूरी तरह बिगड़ चुका है। मनुष्य सिर्फ पेड़ काटता है पेड़ों का रोपण नहीं करता है। "पेड़ प्रकृति का अनमोल रत्न है" जिसकी रक्षा करना हम सभी का दायित्व हैं। पेड़ों की लगातार कटाई ने ग्लोबल वार्मिंग को काफी बढ़ा दिया है, और इसे एक वैश्विक विषय बना दिया है, जिसे सभी को सोचने की जरूरत है।
February 12, 2020

Essay on Tree 200 word in Hindi | EssayToNibandh.com

Essay on Tree 200 word in Hindi

प्रस्तावना:
पेड़ हमारे जीवन में कितना महत्व रखता है, इस बात का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि पेड़ हमें जीवन देते हैं। धरती पर जीवन की परिकल्पना अगर सच में संभव है, तो वह पेड़ों के कारण। प्राचीन समय से ही लोग पेड़ों पर बहुत अधिक निर्भर रहा करते थे, और अभी भी लोगों की पेड़ों पर निर्भरता कुछ खास कम हुई नहीं है। बहुत सारे उद्योग धंधे पेड़ों के कच्चे माल के द्वारा ही अपनी आर्थिक स्थिति को ठीक करते हैं।
पेड़ वातावरण में ऑक्सीजन गैसों का सबसे बड़ा कारक है, जिससे धरती पर जीवन संभव है। साथ ही साथ पेड़ कार्बन डाइऑक्साइड गैस की मात्रा धरती पर नियंत्रित रखती है।
पेड़ों से हमें बहुत कुछ प्राप्त होता है, उदाहरण के लिए पेड़ हमें सुरक्षा, भोजन, घर, दवाइयाँ, छाया आदि देते हैं। लेकिन, पृथ्वी पर लगातार बढ़ता प्रदूषण का सबसे बड़ा कारण है पेड़ों की कटाई। पेड़ों की कटाई से धरती का जल चक्र प्रभावित हुआ है। पेड़ ही धरती पर वर्षा के सबसे बड़े कारक होते हैं, लेकिन मानव अपने विकास की भाग-दौड़ में लगातार पर्यावरण का नुकसान करते गया, और आज इसके गंभीर परिणाम हमें खेलने को मिल रहे हैं।

निष्कर्ष:
इसलिए यह हम सभी की ज़िम्मेदारी है, कि हम पेड़ों की कटाई नहीं बल्कि अधिक से अधिक पेड़ों का रोपण करें। ताकि भविष्य में आने वाली पीढ़ी को भी एक साफ-सुथरा और स्वस्थ वातावरण दे सके, और वे भी अपना जीवनयापन अच्छे से कर सके। तथा उन्हें भी पेड़ों के महत्व के बारे में जागरूक करें.
February 12, 2020

Essay on Tree 250 word in Hindi | EssayToNibandh.com

Essay on Tree 250 word in Hindi

प्रस्तावना:
पेड़ों की रक्षा करना हम सभी का दायित्व है। पेड़ जीवन का आधार होते हैं। वातावरण में पेड़ जीवन जीने के लिए हमें कार्बन डाइऑक्साइड को ग्रहण करके ऑक्सीजन प्रदान करते हैं, जिससे धरती पर जीवन संभव हो पाता है। पेड़ सभी मायनों में इस धरती के सबसे बड़े जीवनकारी होते हैं, और यह मानव के सबसे अच्छे साथी होते हैं। क्योंकि, मानव अपनी लगभग सभी ज़रूरतों के लिए पेड़ों पर ही निर्भर रहा है, और आज भी रहता है। पेड़ ही है, जिसके कारण धरती पर जीवन की कल्पना की जा सकती है।

पेड़ बचाने की जरूरत क्यों पड़ी?:
मानव ने पेड़ों पर अपनी निर्भरता को आगे बढ़ाते हुए ना सिर्फ आधुनिकीकरण की दौड़ में पेड़ों का दोहन करता चला गया, बल्कि उसने पर्यावरण के संतुलन को भी नजरअंदाज करते हुए अपना विकास करने की चाह रखते हुए आगे बढ़ा। और आज इसके भयावह परिणाम सबके सामने है। ग्लोबल वॉर्मिंग ने पूरी दुनिया को एक सख्त संदेश दिया है, कि अगर ऐसे ही पेड़ों का दोहन चलता गया, इसी तरह प्राकृतिक संसाधनों से छेड़छाड़ चलता गया, तो धरती पर जीवन की कल्पना संभव नहीं हो पाएगी। क्योंकि, अगर पेड़ हमें जीवन प्रदान करते हैं, हमारी आवश्यकताओं की पूर्ति के लिए संसाधन प्रदान करते हैं, तो उनकी रक्षा का दायित्व भी हमारा ही है। ना कि उनके दोहन का दायित्व हमारा है।

निष्कर्ष:
" उनके सब्र के बाँध भी टूटने लगे हैं,
अब तो पेड़ भी सूखने लगे है."
यह सिर्फ एक पंक्ति नहीं बल्कि यह आज के समय का एक कड़वा सच है, जिसे हम सभी को मानना होगा। इसके समाधान के लिए सभी को मिलकर आगे आना होगा, तभी जाकर धरती के अनमोल जीवन के संसाधन को बचाया जा सकता है, और जीवन के अस्तित्व को आगे भी जिंदा रखा जा सकता है।

Tuesday, February 11, 2020

February 11, 2020

Essay on Tree 500 word in Hindi | EssayToNibandh.com

Essay on Tree 500 word in Hindi

प्रस्तावना:
"अभी नही सम्भले तो बाद में बड़ा पछतावा होगा,
अब पेड़ काटे तो बाद में लगाने का कोई फायदा नहीं होगा."
पेड़ प्रकृति की एक ऐसी देन है जो जीवन देता है। जिसका, अन्य कोई विकल्प नहीं है। इसके कारण ही धरती पर हमारा अस्तित्व आज तक जीवित है। अगर हमारे आस पास के वातावरण में अधिक से अधिक मात्रा में पेड़-पौधे होंगे, तो हमारे आस पास के वातावरण की हवा भी शुद्ध होगी, और जलवायु काफी अच्छी होगी। पेड़ प्रकृति की अनुपम देन हैं।

पेड़ और मानव का संबंध:
पेड़ प्राचीन समय से ही मानव जीवन को बहुत आसानमय बनाते रहे हैं, उनकी ज़रूरतों को पूरा करते रहे हैं। इस कारण मानव और पेड़ पौधों में बहुत घनिष्ठ संबंध रहा है। मानव का पेड़ से बहुत जुड़ाव रहा है। इस कारण हमारे समाज में बहुत सारे पेड़ को भगवान का दर्जा प्राप्त है। उनकी पूजा-अर्चना की जाती है। उनकी रक्षा की जाती है। तुलसी, पीपल, केला, आम, बरगद के पेड़ों को भगवान के समान समझा जाता है।
पेड़ को भगवान के समान दर्जा दिया जाता है, और उनका सम्मान किया जाता है। क्योंकि, पेड़ मानव के पूरे जीवन काल में एक सच्चे दोस्त की तरह उसकी सभी जरूरतों को पूरा करते हुए उसका ख्याल रखता है। लेकिन बढ़ते शहरीकरण ने पेड़ और मानव के बीच एक खाई सी पैदा कर दी है। मानव ने ही अपने सच्चे दोस्त को काटना शुरू कर दिया, जिसके कारण प्रकृति ने अपने दुष्परिणाम से मानव जीवन को रूबरू कराया और अगर ऐसे ही चलता रहा तो आगे भी इसके विकराल परिणाम से हम सभी को रूबरू होना होगा।

पेड़ों के लाभ:
पेड़ों के कारण ही हमें शुद्ध हवा मिलती है।
पेड़ वायुमंडल में कार्बन डाइऑक्साइड की मात्रा को नियंत्रित करते हैं, और कार्बन डाइऑक्साइड को अवशोषित करके ऑक्सीजन गैस प्रदान करते हैं।
पेड़ वायुमंडल में वायु प्रदूषण को रोकता है।
हमारे आसपास के वातावरण में अधिक से अधिक पेड़ होने से ध्वनि प्रदूषण भी कम होता है।
पेड़ धरती पर वर्षा के कारक होते हैं।
पेड़ों के कारण ही धरती का पारिस्थितिक तंत्र पूरी तरह बना रहता है, पारिस्थितिक तंत्र को चलाने में पेड़ों की बहुत महत्वपूर्ण भूमिका रहती है।
पेड़ हमें विभिन्न प्रकार के कच्चे माल प्रदान करते हैं, जिसे हम संशोधित करके अपने लिए इस्तेमाल करते हैं।
पेड़ गर्मियों में हम सभी को ठंडी हवा प्रदान करते हैं।
पेड़ जीवन का अनमोल रत्न है।
पेड़ भूमि के कटाव को भी रोकते हैं
ये पेड़ ये पत्ते भी
नाराज हो जाएं
यदि परिंदे भी
हिन्दू मुसलमान हो जाएं।
इसके मायने बहुत अलग है। क्योंकि, जीवन का अस्तित्व ही टिका है पेड़ों पर। जब तक पेड़ों को काटना बंद नहीं होगा तब तक पर्यावरण का संतुलन ठीक नहीं हो सकता है। पेड़ों को बचाने के लिए जब तक लोग खुद आगे बढ़कर मुहिम नहीं चलाएँगे, अपने अंदर झांकेगे नहीं, तब तक पेड़ बचाओ की मुहिम को आगे नहीं बढ़ाया जा सकता है।

निष्कर्ष:
एक कविता आपको सुनाता हूं जिससे, आप पेड़ों के महत्व को समझ सकेंगे और अपने जीवन में पेड़ों को काटेंगे नहीं, बल्कि पेड़ों को अधिक से अधिक लगाएंगे, और उनकी अच्छे से देखभाल करके वातावरण को स्वच्छ बनाने में अपना योगदान देंगे:-
पेड़ों की शोभा है न्यारी-न्यारी
तभी तो खिलें हैं फूल क्यारी-क्यारी
जाने क्या सोच कर पेड़ काट डाला
क्यों धरती का दिल चीर डाला
क्यों नन्हे पक्षियों को जीते जी
मार डाला

Monday, February 10, 2020

February 10, 2020

Essay on Tree 600 word in Hindi | EssayToNibandh.com

Essay on Tree 600 word in Hindi


प्रस्तावना:
" उनके सब्र के बाँध भी टूटने लगे हैं,
अब तो पेड़ भी सूखने लगे है."
यह हम सभी पर ही कटाक्ष हैं। जिसका, अर्थ हमारे जीवन में बहुत ही मायने रखता है। क्योंकि, मानव सभ्यता के उदय का कारण पेड़ ही रहे हैं। अगर आदिकाल की बात करें तो आदि काल में मानव का ज्यादातर जीवन वनों में ही व्यतीत हुआ है। मानव ने इन्हीं वनों में रहकर विभिन्न प्रकार की कलाए सीखी, अपने लिए घर बनाना सिखा, अपने लिए भोजन का उत्पादन करना सिखा और आगे चलकर अपने लिए विज्ञान में प्रगति की खोज की, अपना विकास करता गया।
लेकिन यह सब पेड़ों के बिना संभव नहीं हो पाया। मनुष्य के जीवन में विज्ञान ने इतनी तेजी से बदलाव लाया कि औद्योगिकीकरण की चकाचौंध में मानव इतना अधिक लीन हो गया बगैर पर्यावरण के दुष्परिणाम की चिंता किए उसका दोहन करते गया, और अपना जीवन यापन करते गया। आज मानव जो भी सुख समृद्धि से जीवन जी रहा है, उसमें पेड़ों की भूमिका को बिल्कुल भी नहीं नकारा जा सकता है।

पेड़ों की कमी के दुष्प्रभाव:
पेड़ों की कमी के कारण वातावरण में लगातार प्रदूषण बढ़ते जा रहा है। इससे गंभीर तरह की बीमारियाँ धरती पर जन्म ले रही है, और मानव जीवन को इस का सामना करना पड़ रहा है।
पेड़ों की लगातार कमी वायुमंडल में कार्बन डाइऑक्साइड की मात्रा को बढ़ा रही है, जिससे धरती का तापमान लगातार बढ़ते जा रहा है। तापमान बढ़ने के कारण ग्लेशियर पिघल रहे हैं, जिससे समुद्र का भी जल स्तर बढ़ते जा रहा है और कई देशों के डूबने का खतरा बढ़ता जा रहा है।
पेड़ों की लगातार कटाई से प्रकृति ने अब अपना विकराल परिणाम दिखाने शुरू कर दिए हैं। भूकंप, बाढ, सूनामी जैसी आपदाओं से इस धरती को सामना करना पड़ रहा है।
पेड़ों की कमी से जंगली जानवरों का आश्रय स्थान समाप्त होते जा रहा है जिससे वे भी विलुप्त होते जा रहे हैं।
पेड़ों की लगातार कटाई ने धरती पर वर्षा को बाधित किया है। जल चक्र को पूरी तरह प्रभावित किया है। जिससे, कहीं अधिक वर्षा होती है और कहीं बहुत कम वर्षा होती है।
पेड़ों की लगातार कमी के कारण धरती का पारिस्थितिक तंत्र पूरी तरह बिगड़ गया है।

पेड़ों का महत्व:
हम पेड़ से सिर्फ लाभ उठाते ही है, पेड़ों को कुछ देते ही नहीं हैं, बल्कि पेड़ों का नुकसान ही करते हैं। पेड़ हमसे कुछ नहीं मांगते वह हमारी ज़रूरतों को पूरा करते हैं। पेड़ हमें एक शुद्ध वातावरण प्रदान करते हैं, जिसमें हम सांस ले पाते हैं और जीवित रह पाते हैं। पेड़ हमें लकड़ी के रूप में ईंधन उपलब्ध कराते हैं। पेड़ हमें ठंडी छाया प्रदान करते हैं। पेड़ किसी भी देश की आर्थिक स्थिति मजबूत करने के लिए कच्चा माल प्रदान करते हैं। पेड़ वर्षा करने में सहायक होते हैं। पेड़ के कारण ही धरती पर जल की संभावना बनी हुई है। पेड़ मिट्टी के कटाव को भी रोकते हैं। पेड़ों से मिलने वाली जड़ी बूटियां से कई प्रकार की दवाइयाँ बनती है।

पेड़ है तो कल है:
पेड़ों के महत्व को समझते हुए हमें पेड़ों को बचाने के महत्व पर विशेष ध्यान देना होगा। पेड़ हमें आवास, भोजन, कच्चा माल, फल-फूल प्रदान करते हैं। पेड़ जीव जंतुओं और पशु पक्षियों का आश्रय स्थान होता है। पेड़ों को काटने के बजाय हम अधिक से अधिक मात्रा में पेड़ों को लगा कर इस विकट परिस्थिति को रोक सकते हैं। जहां पर पेड़ काटते हैं वैसी जगह का पता लगाना चाहिए, और सरकार को भी पेड़ों के कटने पर पूर्ण रूप से प्रतिबंध लगाना चाहिए। जो लालची लोग पेड़ों की कटाई करते चले आ रहे हैं, उन्हें सख्त से सख्त सजा दी जानी चाहिए। पेड़ों को सिर्फ लगाना नहीं चाहिए बल्कि उनकी देखभाल भी करनी चाहिए।

निष्कर्ष:
" वृक्ष न काटकर, वृक्ष पर कोई एहसान नहीं कर रहे हो, तुम सिर्फ अपने जीवन को बचाने का प्रयास कर रहे हो."
पेड़ों की रक्षा करना हमारा कर्तव्य है, और पेड़ों की रक्षा करके हम स्वयं की सुरक्षा कर रहे हैं। यदि हम इसी प्रकार निरंतर पेड़ों को काटते रहेंगे, तो पेड़ हमारे स्वास्थ्य के साथ-साथ धन को भी काफी नुकसान पहुँचाएगा । पेड़ में पाए जाने वाले औषधीय गुण हमारे बहुत से रोगों के इलाज में काम आता है। पेड़ों की कटाई से वन्य जीव बेघर हो जाएंगे, जिससे वे विलुप्त हो जाएंगे और उनका जीवन समाप्त हो जाएगा। पेड़ प्रकृति का अनमोल उपहार हैं, प्रकृति का सौंदर्य हैं जिसे बचाने की जरूरत है।
February 10, 2020

Essay on Tree 400 word in Hindi | EssayToNibandh.com

Essay on Tree 400 word in Hindi

प्रस्तावना:
हम सभी के जीवन में पेड़ों का महत्व बहुत अधिक होता है। क्योंकि, पेड़ों की वजह से हम सभी आज जीवित हैं, और एक स्वस्थ जीवन जी पा रहे हैं। यदि हमारे आसपास पर्यावरण में पेड़ नहीं होंगे, तो पृथ्वी पर जीवन नहीं होगा। जिसके परिणाम स्वरुप हम भी इस पृथ्वी पर नहीं होंगे। प्राचीन समय से ही पेड़ मानव जीवन का एक अहम हिस्सा रहा है, और मानव अपनी सभी आवश्यकताओं के लिए अधिकतर पेड़ों पर ही निर्भर रहा है। मानव ने अपना सर ढकने के लिए पेड़ों की टहनियों और पत्तियों से अपने लिए आवास की व्यवस्था की।
लेकिन विज्ञान की अंधी दौड़ में अपने विकास के लिए मानव ने पेड़ों को काटना शुरू किया। अपनी सुख-सुविधाओं के लिए मानव ने पेड़ों का दोहन किया, और अपने विकास की रथ पर आगे बढ़ता गया। बिना इसकी परवाह किए कि पेड़ जीवन देते हैं, अगर हम उसी जीवन को समाप्त कर देंगे, तो हमारा जीवन बचेगा ही नहीं। पेड़ वायुमंडल में कार्बन डाइऑक्साइड गैस लेकर हमें ऑक्सीजन गैस प्रदान करते हैं जिससे, जीवन धरती पर बना हुआ है।

पेड़ों को कैसे बचा सकते हैं-
विडंबना देखिए कि हम आज भी उसी जीवन देने वाले पेड़ को काट रहे हैं, और अपने जीवन पर ग्रहण लगा रहे हैं। अभी भी ज्यादा देर नहीं हुई है। अगर हम अभी भी पेड़ों को बचाने के प्रति संवेदनशील नहीं हुए तो, भविष्य में आने वाली पीढ़ी हमें कभी माफ नहीं कर पाएगी, और ना ही जीवन देख पाएंगी। क्योंकि " पेड़ है तो कल है"
इसलिए हमें अपने आसपास अधिक से अधिक पेड़ों को लगाना होगा। साथ ही साथ दूसरों को भी पेड़ों का महत्व बताकर उन्हें भी अधिक से अधिक पेड़ों को लगाने के लिए जागरूक करना होगा। हमें अपना जीवन बचाने के लिए हर संभव प्रयास करना होगा। तभी जाकर धरती इस ग्रह को बचाया जा सकता है। लोगों को यह भी बताना होगा कि पेड़ों की कमी के क्या दुष्परिणाम है! सरकार की भी ज़िम्मेदारी है, कि वे पेड़ों की कटाई पर पूर्ण रूप से प्रतिबंध लगाए, और बहुत पुराने पेड़ों के व्यापार की रोकथाम करें।
स्कूली छात्र-छात्राओं में भी पेड़ों के महत्व को बताना होगा। इसके प्रति जागरूक करना होगा। इसके लिए तरह तरह की प्रतियोगिताएं करवाई जा सकती है। पेड़ बचाओ पर कार्यक्रम करवाया जा सकता है। रैलियां निकाली जा सकती है, जिससे चारों तरफ "पेड़ बचाओ" का संदेश जाए और लालची लोग भी पेड़ों के महत्व को समझे और पेड़ों को ना काटे।

निष्कर्ष:
इस तरह हम अधिक से अधिक पेड़ों को लगाकर पर्यावरण को संतुलित बना सकते हैं, और उसके विनाशकारी परिणाम को कम कर सकते हैं। जिससे मानव जीवन आगे भी धरती पर बना रहे।
February 10, 2020

Essay on Tree 300 word in Hindi | EssayToNibandh.com

Essay on Tree 300 word in Hindi

प्रस्तावना:
वर्तमान समय में पर्यावरण में बढ़ते प्रदूषण और ग्लोबल वॉर्मिंग का कारण प्रकृति से छेड़छाड़ है- पेड़ों की कटाई है। पेड़ों की संख्या में लगातार गिरावट आ रही है, क्योंकि मानव अपने विकास के लिए लगातार पेड़ों का दोहन करते चले जा रहा है, इस बात की परवाह किए बगैर कि इसके दुष्परिणाम धरती पर रहने वाले सभी जीवों के साथ-साथ मनुष्य को भी झेलने पड़ेंगे।
पेड़ों की कमी के कारण पर्यावरण संतुलन पूरी तरह अस्त-व्यस्त हो गया है, जिसे पेड़ों का अधिक से अधिक रोपण करके ही कम किया जा सकता है। इसलिए आज के समय में पूरे पर्यावरण में पेड़ों की कमी एक वैश्विक समस्या बन गया है।

पेड़ का मानवीय मूल्यों में महत्व:
" पेड़ आज भी गद्दार नहीं है,
उन्हें फल, फूल, छाया
देने से इनकार नहीं हैं."
पेड़ों का मानव जीवन में महत्व ऊपर दी गई पंक्ति के आधार पर ही समझा जा सकता है। पेड़ ना सिर्फ मानव जीवन का आधार होते हैं, बल्कि मानव अपनी सभी आधारभूत आवश्यकताओं के लिए पेड़ों पर ही प्राचीन समय से निर्भर रहा है। पेड़ ना सिर्फ अपनी ठंडी छाया से सभी को सुकून का अहसास कराता है, बल्कि पेड़ मानव को भोजन प्रदान करता है। पेड़ मानव को ईंधन के लिए लकड़ी प्रदान करता है। पेड़ मानव को कच्चा माल प्रदान करता है, उदाहरण के लिए रबर, कागज बनाने के लिए बाँस, गोंद, दवाइयाँ बनाने के लिए जड़ी-बूटी जिन से मानव जीवन संभव हो पाता है, और किसी राष्ट्र का आर्थिक विकास भी हो पाता है। पेड़ ना सिर्फ मानव जीवन को सुकूनमय बनाता है, बल्कि यह मानव जीवन को संभव बनाता है। चारों तरफ रहने वाली शुद्ध हवा मानव को स्वस्थ रखती है।

निष्कर्ष:
जीवन में पेड़ों के महत्व को देखते हुए सभी को अधिक से अधिक मात्रा में पेड़ों को लगाना चाहिए। उनकी देखभाल करनी चाहिए, और पेड़ों की कटाई रोकने के प्रयास करने चाहिए।