मेरा परिवार निबंध {छोटे-बड़े निबंध, भाषण सहित}| My Family Essay In Hindi 2023

मेरा परिवार निबंध, परिवार हम में से हर एक व्यक्ति के लिए अत्यंत ही महत्वपूर्ण है क्योंकि हम सभी अपने परिवार से बहुत ही ज्यादा प्यार करते हैं। हम इस पूरी दुनिया के किसी भी कोने में क्यों न चले जाए लेकिन हमें वहां अपने परिवार की कमी जरूर महसूस होती ही है।

मेरा परिवार निबंध,
मेरा परिवार,
मेरा परिवार निबंध हिंदी,
मेरा परिवार पर निबंध,
मेरे परिवार पर निबंध,
परिवार पर लेख
मेरा परिवार

EssayToNibandh.com पर आज हम ‘मेरा परिवार निबंध’ पढ़ेंगे। जो की अलग अलग शब्द सीमा के आधार पर लिखे गए हैं। आप परिवार पर लेख (My Family Essay In Hindi) को ध्यान से और मन लगाकर पढ़ें और समझें।

मेरा परिवार पर निबंध हिंदी में को निम्न शब्द सीमा के आधार पर लिखा गया है-

आइये! My Family Essay In Hindi को अलग अलग शब्द सीमाओं के आधार पर पढ़ें।

नोट- यहां पर दिया गया मेरा परिवार निबंध हिंदी में कक्षा(For Class) 1, 2, 3, 4, 5, 6, 7, 8, 9, 10, 11, 12,(विद्यालय में पढ़ने वाले) विद्यार्थियों के साथ-साथकॉलेज के विद्यार्थियों के लिए भी मान्य हैं।

मेरे परिवार के बारे में 5 लाइन हिंदी में

  1. मेरे पास एक बहुत ही अच्छा परिवार है जो हमेशा मेरा ध्यान रखता है।
  2. मैं एक बड़े परिवार में रहता हूं।
  3. मेरे परिवार में कुल 8 सदस्य हैं। दादा-दादी, चाचा-चाची, मम्मी-पापा, मैं और मेरी चाची जी की लड़की।
  4. हम सभी एक-दूसरे की हमेशा मदद करते हैं और हम सब एक-दूसरे से बहुत प्यार करते हैं।
  5. हम सभी हर महीने पिकनिक पर जरूर जाते हैं।

कितने भी बुरे हालात हो,
थामे रखते हैं मेरा हाथ,
मेरा परिवार रहता है मेरे साथ,
चाहे दुनिया छोड़ दे मेरा हाथ।

मेरा परिवार निबंध हिंदी में 10 पंक्तियाँ

  1. मेरा नाम अनय है, मैं एक बड़े परिवार में रहता हूं।
  2. मेरे परिवार में छ: सदस्य है, मम्मी-पापा, दादा-दादी और में तथा मेरी छोटी बहन।
  3. मेरे पापा एक डॉक्टर है और मेरी मां एक टीचर है।
  4. मेरे दादाजी एक सेवानिवृत्त सरकारी कर्मचारी है और मेरी दादी ग्रहणी है।
  5. मेरे दादा-दादी हम सभी से बहुत प्यार करते हैं। और रोज हमें कहानियां भी सुनाते हैं।
  6. मैं और मेरी बहन हम दोनों बहुत बड़े अंग्रेजी माध्यम स्कूल में पढ़ते हैं।
  7. हम सब हर महीने बाहर घूमने जाते हैं।
  8. मेरी दादी रोज आरती करती है और हम सभी को आरती तथा प्रसाद देती है।
  9. मेरी मां रोज हम सभी के लिए एक सुबह जल्दी उठकर खाना बनाती है तथा दादी भी उनकी मदद करती है।
  10. मेरे माता-पिता हमें बहुत प्यार करते हैं और दादा-दादी जी का सम्मान करते हैं। हम सभी एक साथ शाम के समय काफी सारा समय साथ बिताते है।

मेरे परिवार पर लघु निबंध हिंदी में 150 शब्द

कहा जाता है इस दुनिया में अगर कोई ऐसा संबंध है। जो सबसे ज्यादा मजबूत हो तो वह है रक्त संबंध उन सभी में कभी-कभी छोटी-छोटी बातों को लेकर झगड़ा होता है।

तो कभी फालतू की बातों को लेकर लेकिन फिर भी सभी एक-दूसरे से बहुत प्यार करते हैं। जब भी परिवार में कोई कठिनाई आती है तो पूरा परिवार मिलकर उसका सामना करता है।

चलती फिरती हुई आँखों से अज़ाँ देखी है,
मैंने जन्नत तो नहीं देखी है माँ देखी है।

जीवन में हजारों उतार-चढ़ाव आते हैं मगर परिवार यदि साथ है तो हर स्थिति में इंसान खुश रह सकता है और सभी मुसीबतों का सामना भी डट कर करता है।

परिवार की सबसे खास बात यह है कि वह घर के सदस्यों को कभी अकेला महसूस नहीं होने देता हर स्थिति में चाहे अच्छी हो या बुरी परिवार एकजुट होकर रहता है।

अक्सर लोग परिवार के महत्व को नहीं समझते और अपना परिवार छोड़ कर चले जाते हैं। मगर मैं मानता हूं, कि जो लोग अपने परिवार को छोड़ देते हैं वह बहुत अजीब होते हैं। मैं बहुत खुश हूं कि ईश्वर ने मुझे इतना प्यारा परिवार दिया।

सोचना है तो सिर्फ परिवार के लिए,
कमाना है तो सिर्फ परिवार के लिए।

मेरा परिवार हिंदी निबंध 200 शब्द

मेरा परिवार एक छोटा एवं सुखी परिवार है। मेरे परिवार में मेरी मां-पापा दादी-दादा और मैं रहता हूं। मेरे पापा एक सरकारी कर्मचारी है और मेरी मां एक शिक्षिका है।

मेरे दादाजी एक सेवानिवृत्त सरकारी पुलिस ऑफिसर है। मेरी मां ग्रहणी है। मेरी दादी मेरी मां के का- काज में हाथ बांटा देती है क्योंकि मां को पूरे घर का ध्यान रखना पड़ता है।

घर तो ईंट और रेत से बन जाते है,
पर परिवार तो प्रेम से बनता है।

मेरा पूरा परिवार बड़े ही प्यार से रहता है। मेरे घर में सभी मुझे बहुत प्यार करते हैं। मैं रोज मेरे दादाजी के साथ बाहर सुबह-सुबह ‘प्रभात फेरी’ करने के लिए जाता हूं।

मेरी दादी मां हर रोज मुझे शाम के वक्त कहानियां सुनाती है। मेरे पापा को ऑफिस में बहुत काम होता है फिर भी वह हम सबके लिए समय निकाल ही लेते हैं।

मेरी मां से मैं सबसे ज्यादा प्यार करता हूं। क्योंकि वह अपना विद्यालय का कार्य भी करती है, साथ ही साथ पूरे परिवार का भी बहुत अच्छे से ध्यान रखती है।

अगर जीतना है,
तो अपने माता-पिता का दिल जीतो,
वरना सारी दुनिया,
जीत कर भी हार जाओगे।

मेरी मां परिवार के प्रति अपनी सारी जिम्मेदारियों को बहुत ही अच्छे से निभाती है तथा सभी का ख्याल भी रखती है। मेरी मां मुझसे बहुत ज्यादा प्यार करती है और हमेशा मुझे अच्छी-अच्छी बातें सिखाती है।

मैं बहुत ज्यादा खुश हूं अपने परिवार के साथ और मैं भगवान का धन्यवाद करता हूं। क्योंकि उन्होंने मुझे बहुत प्यारा परिवार दिया।

परिवार पर निबंध 250 शब्द

हमारा परिवार हमें सिखाता है कि दुनिया कैसे काम करती है? और हमें इस दुनिया में अपना नाम कैसे बनाना है।

कैसे हम सभी चुनौतियों का सामना करते हुए खुद की पहचान बना सकते हैं। एक अच्छा और मजबूत परिवार वही होता है जहां परिवार के हर सदस्य की बातों को सुना जाता है।

दिखावे के रिश्तों में रहने से अच्छा है उनके साथ रहो,
जहां तुम्हें सबसे ज्यादा प्यार दिया जाता है।

जब परिवार में सभी सदस्यों को महत्व दिया जाता है तथा हर मामले में प्रत्येक सदस्य की राय ली जाती है, वह परिवार बहुत मजबूत हो जाता है तथा उस परिवार में कोई भी मुसीबत ज्यादा देर तक टिक नहीं पाती ऐसे परिवार में हमेशा खुशियां ही खुशियां मिलती है।

जहां मुझे मिलता है सबसे ज्यादा प्यार,
वह है मेरा परिवार।

साथ में छुट्टियां मनाने से, बाजार जाने से, खरीददारी करने से तथा मंदिर जाने से सभी सदस्य एक-दूसरे के साथ खुलने लगते हैं। और बिना किसी झिझक के एक दूसरे के साथ अपनी सारी बातें साझा करते हैं।

परिवार में सभी के मन एक दूसरे के संपर्क में आ जाते हैं। परिवार एक व्यक्ति की ताकत तो है ही मगर व्यक्ति की कमजोरी भी है।

परिवार व्यक्ति का पहला अध्ययन केंद्र होता है। और इसके संस्कार ही एक व्यक्ति को समाज में पहचान दिलाते हैं।

ए रब!
मेरे परिवार को,
हमेशा सलामत रखना।

परिवार के महत्व पर निबंध हिंदी में 300 शब्द

प्रस्तावना

परिवार, हम में से हर एक व्यक्ति के लिए अत्यंत ही महत्वपूर्ण है क्योंकि हम सभी अपने परिवार से बहुत ही ज्यादा प्यार करते हैं।

हम इस पूरी दुनिया के किसी भी कोने में क्यों न चले जाए लेकिन हमें वहां अपने परिवार की कमी जरूर महसूस होती ही है।

आप अमीर हो अगर आपके पास अपना परिवार है,
पैसों का क्या है आज है तो नहीं है।

परिवार की देन

परिवार हमसे कभी कुछ नहीं मांगता लेकिन परिवार हमें हमेशा बहुत कुछ देता है। परिवार हमें अगणित चीजें देता है, इसकी जितनी भी व्याख्या की जाए वह कम ही होगी।

सुरक्षा

परिवार की अनेक देनों में से यह एक महत्वपूर्ण देन है। परिवार में हम सबसे ज्यादा सुरक्षित महसूस करते हैं।

जब हम हमारे परिवार के साथ होते हैं तो हमें कभी भी असुरक्षित नहीं लगता और हम स्वयं को काफी सुरक्षित महसूस करते हैं।

जिसके पास परिवार नहीं,
उससे पूछो परिवार क्या होता है,
जब कभी भी जिंदगी में कोई मुश्किल हो,
तो परिवार ही है जो हमेशा साथ खड़ा होता है।

समाज में मान सम्मान

परिवार में हम अनेक चीजें सीखते हैं जो समाज के सामने यह तय करती है। कि हमारा व्यक्तित्व कैसा है। परिवार हमें संस्कार देते हैं। हमें बाहरी दुनिया को समझने में मदद करता है।

परिवार हमें एक उपनाम देता है, हमारा धर्म निर्धारित है, हमें जीना सिखाता है। परिवार के कारण ही हम एक सामान्य मनुष्य से एक खास व्यक्ति का विकास करते हैं। सभी समाज में हमें मान सम्मान मिलता है।

आज लाखों रुपए बेकार है,
उस एक रूपए के सामने,
जो कभी मां स्कूल जाते वक्त देती थी।

एक अकेला व्यक्ति जो कार्य नहीं कर सकता परिवार के साथ वह उस कार्य को अवश्य ही कर पाएगा परिवार की ताकत का अंदाजा लगा पाना भी आसान नहीं है।

परिवार से इतना कुछ व्यक्तियों को मिलता है। उसके बाद भी यदि कोई परिवार के महत्व को यदि नहीं समझता तो निश्चित ही उससे बड़ा मूर्ख इस संसार में अन्य कोई नहीं होगा।

मैं बहुत धन्यवाद करता हूं ईश्वर का क्योंकि उन्होंने मुझे एक परिवार उपहार स्वरूप दिया।

जिस तरह से कुम्हार,
धीरे-धीरे मटका बनाता है,
उसी तरह से परिवार बनता है,
फोड़ मत देना।

My Family Essay In Hindi,
Essay On Family In Hindi,
Short Essay On My Family In Hindi,
My Family Paragraph In Hindi,
My Family In Hindi Essay
My Family Essay In Hindi

परिवार पर निबंध हिंदी में 400 शब्द

प्रस्तावना

जो लोग परस्पर रक्त संबंध से जुड़े होते हैं। अथवा विवाह के रिश्ते से जुड़े होते हैं, ऐसे व्यक्तियों के समूह को परिवार कहा जाता है।

आज परिवार ही तेरी जान है,
परिवार के बिना तू पूरा बेजान है,
जी ले हर लम्हा खुशी का उनके साथ,
क्योंकि परिवार ही तेरी शान है।

हमारे समाज में परिवार को दो श्रेणियों में बांटा है-

  1. मूल परिवार।
  2. संयुक्त परिवार।

मूल परिवार

मूल परिवार वह परिवार होता है। जहां माता-पिता तथा उनके बच्चे निवास करते हैं। इसे सामान्यतः छोटा परिवार भी कहा जाता है। छोटे परिवार के अनेक फायदे होते हैं।

छोटे परिवार की आर्थिक स्थिति काफी मजबूत होती है। क्योंकि इनमें सदस्य कम होते हैं। छोटे परिवार में लड़ाई-झगड़े की संभावना काफी कम हो जाती है। तथा इसे परिवार अक्सर शांति तथा खुशी का माहौल होता है।

छोटे परिवार में व्यक्तियों की संख्या कम होने के कारण परिवार में ऐसा कोई व्यक्ति नहीं होता जिसमें उसे अपनी आय की तुलना करनी पड़े। मूल परिवार में बच्चे की ज्यादातर इच्छाएं पूरी हो जाती है।

उसे अच्छे स्कूल में एडमिशन भी मिलता है। और तो और उसको इसके मनपसंद कपड़े में खिलौने भी तुरंत ही मिल जाते हैं।

सभी को लगता है,
मेरी सफलता मेरी मेहनत से आयी है,
पर ऐसा कभी ना होता,
यदि मेरा परिवार साथ ना होता।

मूल परिवार से हानियां

मूल परिवार में लाभ तो होते ही हैं पर साथ ही साथ इस की अनेक हानियां भी है, मूल परिवार में बच्चों को खेलने के लिए घर से बाहर के बच्चों का साथ मिलता है।

क्योंकि घर में अनेक साथ उनकी उम्र का कोई खेलने वाला नहीं मिलता और ना ही बड़ों के पास इतना समय होता है कि वह उनके साथ खेलें।

मूल परिवार में अक्सर व्यक्तियों को अकेला महसूस कराता है क्योंकि वह अपने परिवार से अलग रह रहा होता है।

मुझे प्यार है,
मेरी मां के हाथों से,
न जाने कितनी बार मुझे,
गिरने से संभाला होगा।

मेरा परिवार पर भाषण

  • आदरणीय अतिथिगण एवं मेरे प्यारे मित्रों आज मैं आप सभी को अपने परिवार के विषय में कुछ रोचक बातें बताउंगी।
  • जैसा की आप सभी को पता है कि कोई भी व्यक्ति जब जन्म लेता है तभी से उसका रिश्ता नए-नए लोगों के साथ जुड़ जाता है। और जिस घर में उसे ले जाया जाता है उस घर में रहने वाले सभी सदस्य उसका परिवार कहलाता है।
  • परिवार दो प्रकार के होते हैं- छोटा परिवार तथा बड़ा परिवार। मैं एक बड़े परिवार में रहता हूं मेरे परिवार में दादा-दादी, मम्मी-पापा तथा मैं और मेरी बहन रहते हैं।
  • हम सब एक साथ बहुत खुशी-खुशी रहते हैं मेरे पिताजी काम करते हैं। और मेरे दादाजी रिटायर हो चुके हैं।
  • मेरी दादी हम दोनों का बहुत ख्याल रखती है और मेरी मां हम सभी के लिए रोज टेस्टी टेस्टी चीजें बनाती है।
  • वास्तव में परिवार ईश्वर का विशेष उपहार है और मैं खुद को बहुत भाग्यशाली समझता हूं कि ईश्वर ने मुझे ऐसा परिवार दिया।

भगवान की पूजा करने से पहले,
अपने मां-बाप की पूजा करो,
क्योंकि मां बाप,
भगवान का ही रूप है।

निष्कर्ष

हर व्यक्ति के जीवन में मूल परिवार तथा संयुक्त परिवार दोनों के ही फायदे भी है और नुकसान भी।

व्यक्ति के लिए सबसे ज्यादा आवश्यक यह है कि वह अपने परिवार के साथ रहे फर्क नहीं पड़ता कि परिवार मूल परिवार है या सयुंक्त परिवार।

निबंध मेरा परिवार 500 शब्दों में

प्रस्तावना

परिवार हर व्यक्ति के जीवन की सबसे बड़ी आवश्यकता है। परिवार के दो मूल रूप है। संयुक्त परिवार छोटा परिवार सुखी परिवार के अंतर्गत पापा-मम्मी, दादा-दादी, चाचा-चाची और बच्चे आदि आते हैं। जबकि छोटे परिवार में केवल माता-पिता तथा बच्चे ही निवास करते हैं।

ना जाने कितनों से मैंने इश्क किया,
पर हर किसी ने मेरे दिल को तोड़ा,
अच्छे हो या बुरे हालात पर,
मेरे परिवार ने कभी मेरा साथ नहीं छोड़ा।

परिवार का महत्व

कुछ लोग कभी नहीं समझ पाते हैं। कि परिवार कितना ज्यादा महत्वपूर्ण है। और वह परिवार से दूर चले जाते हैं। सिर्फ यह सोच कर कि उन्हें स्वतंत्रता मिल जाए और कोई उन पर रोक टोक ना करें।

परिवार एक आशीर्वाद है ईश्वर का, और यह आशीर्वाद केवल भाग्यशाली लोगों को ही मिलता है तभी तो कुछ लोग को अनाथ होते हुए भी अच्छा परिवार मिल ही जाता है।

और कुछ लोग अपनी गलत सोच और गलतियों के कारण अपने अच्छे परिवार को खो बैठते हैं।

ना कोई रास्ता आसान चाहिए,
ना ही कोई सम्मान चाहिए,
एक ही चीज मांगते हैं रोज ऊपर वाले से,
परिवार के चेहरे पर प्यारी सी मुस्कान चाहिए।

अक्सर लोगों को यह एहसास हो ही नहीं पाता कि परिवार उनके लिए कितना ज्यादा महत्वपूर्ण है। परिवार हमेशा हमारा साथ देता है, हमेशा हमारी वृद्धि में मदद करता है और हमें व्यक्तिगत पहचान देता है।

तथा हमें एक अच्छा और समझदार व्यक्ति बनाने में भी मदद करता है। हम जब अपने परिवार के साथ होते हैं तो हमें सुरक्षित अनुभव होता है तथा हमें सकारात्मक का एहसास अपने चारों ओर होता है।

मेरा घर एक मंदिर है,
और मेरे मां-बाप,
इस मंदिर के भगवान,
और मैं इस मंदिर का पुजारी।

संयुक्त परिवार

संयुक्त परिवार वह परिवार होता है। जिसमें एक साथ दादा-दादी, मम्मी-पापा, चाचा-चाची तथा बच्चे रहते हैं। ऐसे परिवार के बच्चे सभी बड़ों की देखरेख में बड़े होते हैं।

जब भी माता-पिता कहीं बाहर जाते हैं तो उन्हें बच्चे को घर पर छोड़ के जाने में कोई परेशानी नहीं होती क्योंकि परिवार के बाकी सदस्य बच्चों का ध्यान रखते हैं।

मुझको छांव में रखा,
खुद जलते रहे धूप में,
मैंने देखा एक रिश्ता,
मां-बाप के रूप में।

संयुक्त परिवार में बच्चों को खेलने-कूदने के लिए अच्छा माहौल मिलता है। परिवार में जब ज्यादा लोग होते हैं तो कोई भी कभी भी खुद को कभी अकेला महसूस नहीं करता।

संयुक्त परिवार के किसी भी सदस्य को जब कोई दिक्कत आती है तो उसके साथ उसका पूरा परिवार खड़ा होता है।

खुदा करे वह पल,
कभी खत्म ना हो,
जिस लंबे में,
मेरे माता-पिता मुस्कुराते रहे।

संयुक्त परिवार के कुछ नुकसान

संयुक्त परिवार के होने से कई सारे लाभ होते हैं ही पर कई प्रकार हानियां भी है। बड़ा परिवार होने के कारण परिवार में ज्यादा सदस्य होते हैं और सभी की अपनी-अपनी जरूरतें होती है।

लेकिन बड़े परिवार में सभी की जरूरतें पूरी नहीं हो पाती इसलिए उन्हें बहुत ज्यादा सोच-विचार करके परिवार का खर्चा उठाना पड़ता है। संयुक्त परिवार की आर्थिक स्थिति काफी अच्छी नहीं होती।

जिसके होने से मैं,
खुद को मुकम्मल मानता हूं,
मैं खुदा से पहले,
मेरी मां को जानता हूं।

परिवार में सब एक साथ ज्यादा सदस्य रहते हैं तो हर क्षेत्र में उनकी राय भिन्न-भिन्न होती है और आपसी झगड़े भी कभी ज्यादा होते हैं।

सयुंक्त परिवार में कभी-कभी कुछ लोग ज्यादा कमाते हैं। तो कुछ लोग कम ऐसे में एक-दूसरे के बीच में ऊंच-नीच के कारण भी मतभेद हो जाते हैं।

सयुंक्त परिवार में बच्चों को उनकी ज्यादा सुविधाएं भी नहीं मिल पाती क्योंकि वहां बच्चे की संख्या ज्यादा होती है और परिवार को सभी बच्चों की जरूरतें पूरी करनी पड़ती है।

जिस तरह एक पेड़ की जड़,
उस पूरे पेड़ को जिंदा रखती है,
उसी तरह से एक परिवार का प्यार,
परिवार को बनाए रखी है।

निष्कर्ष

जीवन में परिवार का महत्व बहुत ही ज्यादा है। जो इसके महत्व को समझ लेता है। वह बहुत ही ज्यादा भाग्यशाली होता है। परिवार दो प्रकार के होते हैं- सयुंक्त परिवार और मूल परिवार, सयुंक्त परिवार के काफी सारे फायदे हैं। परिवार जीवन के हर क्षेत्र में व्यक्ति का साथ देते हैं।


मेरे प्यारे दोस्तों! मुझे पूरी उम्मीद हैं की मेरे द्वारा लिखा गया मेरा परिवार निबंध आपको जरूर पसंद आया होगा।

आप My Family Essay In Hindi को अपने करीबी दोस्तों या रिश्तेदारों को जरूर शेयर कीजियेगा, जिनको इस निबंध की अति आवश्यकता हो।

Leave a Comment