Best Essay on Khelo Ka Mahatva in Hindi 2020 (खेलों का महत्व/ Khel Ka Mahatva)

Best Essay on Khelo Ka Mahatva in Hindi (खेलों का महत्व/ Khel Ka Mahatva) Hindi Essay: जरा सोचो, खेल हमारे लिए क्या महत्व रखते हैं? मुझे लगता है कि अगर हम खेलों के महत्व को 1 मिनट के लिए सोचेंगे तो, शायद हम खेलों के सभी महत्व के बारे में अच्छे से नहीं जान पाएंगे इसलिए आज हम पढ़ने वाले हैं ‘खेलों का महत्व।’ आइए, पढ़ते हैं।

Khelo Ka Mahatva Par Nibandh
Khelo Ka Mahatva Par Nibandh

EssayToNibandh.com पर आपका हार्दिक स्वागत हैं।

एक छोटी सी Smile😊 के साथ आपको मेरा नमस्कार!🙏

ईश्वर से मेरी प्रार्थना हैं की आप हमेशा खुश रहें और अपनों को भी खुश रखें। क्योंकि, अपने तो अपने होते हैं!😊

आज हम खेलों का महत्व पर निबंध पढ़ेंगे। जो की अलग अलग शब्द सीमा के आधार पर लिखे गए हैं। आप Khelo Ka Mahatva Essay In Hindi को ध्यान से और मन लगाकर पढ़ें और समझें।

Khelo Ka Mahatva Par Nibandh को निम्न शब्द सीमा के आधार पर लिखा गया है-

  1. खेल का महत्व पर निबंध 10 लाइन
  2. Khelo Ka Mahatva in Hindi 100 Shabd
  3. खेल का महत्व 150 शब्दों में
  4. Jeevan Mein Khelo Ka Mahatva 200 Words
  5. Khelo Ka Mahatva Hindi Essay 250 Words
  6. खेल का महत्व निबंध 300 शब्दों में
  7. Khel Ka Mahatva Nibandh 400 Shabdo ka
  8. खेल का महत्व पर निबंध 500 Shabd
  9. Khelo Ka Mahatva पर निबंध 600 Words

आइये! 

Jeevan Mein Khelo Ka Mahatva Nibandh को अलग अलग शब्द सीमाओं के आधार पर पढ़ें।

नोट- यहां पर दिया गया Khelo Ka Mahatva In Hindi कक्षा(For Class) 1, 2, 3, 4, 5, 6, 7, 8, 9, 10, 11, 12,(विद्यालय में पढ़ने वाले) विद्यार्थियों के साथ-साथ कॉलेज के विद्यार्थियों के लिए भी मान्य हैं।

खेल का महत्व पर निबंध 10 लाइन

Khelo Ka Mahatva Par Nibandh 80 Shabd
Khelo Ka Mahatva Par Nibandh 80 Shabd

खेलकूद जीवन का एक अभिन्न अंग है। जिससे शरीर का शारीरिक विकास के साथ-साथ मनुष्य के मानसिक विकास में भी सहायक होता है।

खेल को जीवन में अपनाकर एक तनाव मुक्त खुशहाल जीवन जिया जा सकता है। तथा स्वस्थ जीवन के लिए खेलकूद जरूरी है।

खेलकूद मनुष्य के अंदर ऊर्जा तथा चुस्ती, स्फूर्ति लाता है जिससे मनुष्य से आलस्य दूर भागता है और वह अपने दिन भर के कार्यों को खुशी से करता हैं। 

खेलकूद अनुशासन सिखाता है। और अनुशासन जीवन में आनंद लाता हैं। खेल खेलने से दिमाग की भी कसरत हो जाती है। 

खेल, जीवन में संतुलन बनाए रखने के लिए जरूरी है।


Khelo Ka Mahatva in Hindi 100 Shabd

Khelo Ka Mahatva Par Nibandh 100 Shabd
Khelo Ka Mahatva Par Nibandh 100 Shabd

पहले के जमाने में कहा जाता था की “पढ़ोगे लिखोगे तो बनोगे नवाब, खेलोगे-कूदोगे तो बनोगे खराब” लेकिन अब इसे उल्टा कर दिया जाए तो कोई खास फर्क नहीं आएगा। 

जिंदगी में अक्सर हम में से ज्यादातर खेल के महत्व पर ध्यान नहीं दे पाते हैं। और अपने जीवन में खेल की भूमिका को नहीं समझ पाते हैं। 

लेकिन आज की भागदौड़ भरी जिंदगी में खेलों को अपने जीवन में अपनाकर लोग एक तनाव मुक्त खुशहाल जीवन जी सकते हैं। 

खेलने से शरीर और हमारे स्वास्थ्य पर काफी सकारात्मक प्रभाव पड़ता है। खेल-खेलने से शरीर में रक्त का परिसंचरण बहुत तेज़ी से सुधारने लग जाता है। 

खेल-खेलने से हमारे दिमाग की भी कसरत हो जाती है।


खेल का महत्व 150 शब्दों में

Khelo Ka Mahatva Par Nibandh 150 Shabd
Khelo Ka Mahatva Par Nibandh 150 Shabd

हमारे जीवन में खेलकूद का अपना एक अलग ही महत्व होता है। हमें हर किसी को खेल प्रतियोगिताओं में भाग लेने के लिए प्रोत्साहित करना चाहिए। 

खेल हमें स्वस्थ और तंदुरुस्त तो रखते ही हैं साथ-साथ खेल खेलने से हमारे शारीरिक और मानसिक बौद्धिक क्षमता का भी काफी विकास होता है।

लोगों को पढ़ाई के साथ-साथ खेलकूद में भी अपनी भागीदारी दिखानी चाहिए। खेल-खेलने से शरीर में स्फूर्ति आती है जिससे हम दिन भर होने वाले क्रियाकलापों को खुश रहकर कर सकते हैं। 

प्राचीन समय से ही खेल हमारे जीवन का एक महत्वपूर्ण हिस्सा रहा है। हम सभी जानते हैं कि स्वस्थ मन, स्वस्थ शरीर में ही होता है। 

अर्थात अगर आप शारीरिक परिश्रम करते हैं और विभिन्न प्रकार के खेलों में भाग लेते हैं तो आपका शरीर स्वस्थ रहेगा और आप खुश रहेंगे। 

अगर आप खुश रहेंगे तो आपका मन भी प्रसन्न रहेगा, स्वस्थ रहेगा। 

इस प्रकार आप खेलों की भूमिका को अपने जीवन में समझ सकते हैं।


Jeevan Mein Khelo Ka Mahatva 200 Words

Khelo Ka Mahatva Par Nibandh 200 Shabd
Khelo Ka Mahatva Par Nibandh 200 Shabd

खेलों में भाग लेने से हमारी शारीरिक एक्सरसाइज हो जाती है। खेल मनुष्य को शारीरिक और मानसिक दोनों रूप से स्वस्थ और तंदुरुस्त रखता है। 

खेलकूद हमें तनाव मुक्त रखता है और खेल-खेलने से शरीर और मन शांत रहता है। शरीर में रक्त का प्रभाव बहुत सही रहता है।

जिससे खेल-खेलने वाले लोग रक्त से जुड़ी बीमारियों से बच सकते हैं। प्राचीन काल में भी खेलों का महत्व था। लेकिन खेलों को उस समय केवल एक शौक और मनोरंजन के रूप में लिया जाता था। और माता-पिता भी अपने बच्चों को खेलों में ना जाने की वकालत किया करते थे। 

लेकिन आज के समय में खेलों के स्वास्थ्यवर्धक होने के कारण माता-पिता भी बच्चों को खेलों में भाग लेने के लिए प्रोत्साहित करते हैं। 

विद्यार्थी जीवन में खेल-कूद बहुत जरूरी है। पढ़ाई करके तो विद्यार्थी केवल अपना मानसिक विकास कर सकते हैं लेकिन शारीरिक विकास के लिए खेल कूद में भाग लेना आवश्यक है। 

खेलकूद बढ़ते हुए बच्चों के लिए बहुत आवश्यक होता है इससे उनका शारीरिक विकास और बेहतर तरीके से होता है। खेलकूद बच्चों के साथ-साथ बड़ों के जीवन में भी उतनी ही महत्व रखता है। 

खेलकूद मनुष्य को बलवान तथा निरोगी बनाता है।


Khelo Ka Mahatva Hindi Essay 250 Words

Khelo Ka Mahatva Par Nibandh 250 Shabd
Khelo Ka Mahatva Par Nibandh 250 Shabd

खेलकूद आज के व्यस्तता भरे जीवन में बहुत आवश्यक है। दिन में कुछ समय के लिए निश्चित रूप से खेलकूद के लिए समय निकालना चाहिए। 

खेल जीवन में अपना एक अलग महत्व रखते हैं। क्योंकि यह व्यक्ति के शरीर को शारीरिक और मानसिक रूप से तंदुरुस्त तो रखते ही हैं, साथ-साथ उनमें बहुत सारे अनुशासन के गुणों को अपने अंदर लाना सिखाते हैं। 

जो व्यक्ति बहुत व्यस्त जीवनशैली जीते हैं वे बहुत जल्दी थक जाते हैं, आपने देखा होगा। एक स्वस्थ और खुशहाल सुखी जीवन जीने के लिए सभी को एक स्वस्थ शरीर और मस्तिष्क की आवश्यकता होती है। 

स्वस्थ शरीर और स्वस्थ मस्तिष्क हमें व्यायाम व खेलकूद से ही प्राप्त हो सकते हैं। जीवन में हर किसी को, किसी ना किसी प्रकार की शारीरिक गतिविधि में भाग लेना चाहिए। 

खेलकूद में नियमित रूप से भाग लेने वाले लोगों को ही समय के महत्व का सही ज्ञान हो पाता है। खेलों में भाग लेने वाले प्रतियोगियों के लिए समय की कीमत बहुत अधिक होती है। 

समय बहुमूल्य होता है, जिस कारण वह समय के महत्व को जानते हुए अपने जीवन के भी कीमती समय का सदुपयोग करना सीख जाते हैं।


खेल का महत्व निबंध 300 शब्दों में

Khelo Ka Mahatva Par Nibandh 300 Shabd
Khelo Ka Mahatva Par Nibandh 300 Shabd

आज के समय में जीवन में अन्य कार्यों के साथ-साथ खेलकूद को भी महत्व देना भी आवश्यक है। आज खेलकूद हमारे जीवन की एक प्रकार से जरूरत बन गया है। 

खेलकूद से सभी प्रकार की थकान, आलस्य दूर हो जाता है। मनुष्य के जीवन में एक सार्थक और अच्छे स्वास्थ्य का होना अत्यंत आवश्यक है। 

हम सभी जानते हैं कि ‘स्वस्थ शरीर में ही स्वस्थ मस्तिष्क का निवास होता है।’ खेल तथा व्यायाम हमारे शरीर के लिए अत्यंत आवश्यक है।

शरीर को स्वस्थ तथा तंदुरुस्त रखने के लिए हमें किसी न किसी प्रकार के व्यायाम या खेलकूद की आवश्यकता होती हैं। विद्यार्थी जीवन में खेलों को अत्याधिक महत्व दिया जाना जरूरी है, क्योंकि इस काल में ही समस्त प्रकार की अच्छाई और बुराई उनके जीवन में प्रभाव डालती है। 

जो विद्यार्थी पढ़ाई के साथ-साथ खेलकूद को भी अपनी दिनचर्या में जगह देते हैं, वह पूर्ण रूप से स्वस्थ रहते हैं। और उनका बौद्धिक विकास भी बाकियों के मुकाबले काफी अच्छा होता है।

चुस्त-दुरुस्त शरीर के लिए जीवन में खेलकूद का होना जरूरी है। खेलकूद से मनुष्य के अंदर धैर्य, सहनशीलता और क्षमा जैसे मानवीय गुणों पर प्रभाव पड़ता है और उनका सार्थक विकास भी होता है। 

खेलकूद से समय के महत्व के भी बारे में पता चलता है। खेलकूद के प्रति आज भी हमारे समाज में कुछ खास बदलाव नहीं हुआ हैं। 

माता-पिता आज भी चाहते हैं कि उनके बच्चे पढ़ लिख कर डॉक्टर, इंजीनियर, अध्यापक बने, लेकिन अब खेलकूद के जरिए पहचान बनाने वालों ने उनके नजरिये को बदला है।

खेलकूद से ही एक बड़ा क्रिकेटर, एक बड़ा फुटबॉलर बना जा सकता है। अगर खेलों को जीवन का एक अंग बना लिया जाए तो खेल हमें सब कुछ दिला सकते हैं बस उसे करने का जज्बा होना चाहिए।


Khel Ka Mahatva Nibandh 400 Shabdo ka

Khelo Ka Mahatva Par Nibandh 400 Shabd
Khelo Ka Mahatva Par Nibandh 400 Shabd

खेलकूद, जीवन में तन और मन दोनों को स्वस्थ और फिट तो रखते ही है, साथ-ही-साथ मानवीय गुणों का विकास भी करता हैं। खेल अनुशासन सिखाते हैं। 

धैर्य, सहनशीलता की भावना खेलकूद से मनुष्य के अंदर आती हैं। और समय के महत्व को भी खेलों के द्वारा आसानी से समझा जा सकता है। 

खेल, मनोरंजन का भी एक बढ़िया जरिया है। खेलकूद से जीवन में आत्मविश्वास बढ़ता है। साथ-ही-साथ खेल खेलने वाले खिलाड़ियों के मन में आत्मनिर्भर की भावना भी जागती है। 

खेल, सिर्फ मैदान में ही नहीं खेला जाता है बल्कि खेल दिमाग से भी खेला जाता है। जिससे उनका बौद्धिक विकास होता है।खेलकूद से जीवन तनाव मुक्त रहता है, मन शांत और प्रसन्न रहता है। 

प्रतिदिन खेल या व्यायाम करने से आलस्य की भावना नहीं उत्पन्न होती है। प्रतिदिन व्यायाम या खेल-कूद करने से शरीर की मांसपेशियों का भी विकास होता है, तथा खेल-कूद से हमारा मनोबल बढ़ता है और हम पूरा दिन क्रियाशील रहते है।

जिससे आप अपने दिन भर के क्रियाकलापों को बड़े ही जोश, उमंग और उत्साह से कर सकते हैं। आज के समय में खेलों के महत्व को समझते हुए स्कूल, कॉलेजों में भी शिक्षा के साथ-साथ खेलों को भी पाठ्यक्रमों में जोड़ा जा रहा है। 

विद्यार्थियों को शिक्षा के साथ-साथ अपने शारीरिक विकास के लिए खेलों में भाग लेने के लिए प्रोत्साहित किया जा रहा है। 

दूसरे देशों के खेलों के प्रति जागरूकता और विकास को देखते हुए भारत सरकार ने भी ‘खेलो इंडिया’ नामक अभियान की शुरुआत की, जो स्कूली बच्चों को खेलों के प्रति जागरूक करेगा और उन्हें खेलने के लिए प्रेरित करेगा।

कोई भी खेल खेलने से शरीर का शारीरिक विकास तो होता ही है तथा उनमें सामाजिक और मानसिक विकास भी होता है। सभी को अपनी दिनचर्या में खेलो को जरूर शामिल करना चाहिए। 

खेल खेलने और व्यायाम करने के दौरान शरीर के सभी अंगों पर इसका सकारात्मक प्रभाव पड़ता है।मांसपेशियां मजबूत होती है।तथा रक्त का संचरण शरीर के सभी भागों में सुचारू रूप से होता है। 

खेल खेलने से शरीर की बहुत सारी बीमारियां दूर हो जाती है। खेलकूद का जीवन से भी गहरा नाता है। जैसे खेल-खेलने के समय हर एक सेकंड हमें अलर्ट रहना पड़ता है। 

इसी प्रकार जीवन के हर एक मोड़ में हमें सोच समझकर आगे बढ़ना पड़ता है। जिस प्रकार स्केटिंग में बैलेंस बनाकर रखना होता है उसी प्रकार जीवन में भी संतुलन की अहम भूमिका है। 

क्रिकेट, फुटबॉल, जैसे खेलों में दिमागी और शारीरिक रूप से हमेशा अलर्ट रहना पड़ता है उसी प्रकार जिंदगी में भी हमेशा हमें सभी चीजों से जागरूक रहना पड़ता है।


खेल का महत्व पर निबंध 500 Shabd

Khelo Ka Mahatva Par Nibandh 500 Shabd
Khelo Ka Mahatva Par Nibandh 500 Shabd

खेलकूद एक प्रकार की शारीरिक गतिविधि हैं जो भाग लेने वालों के कौशल विकास में बहुत मदद करती है। खेलकूद सभी उम्र के लोगों के लिए महत्वपूर्ण हैं। 

खेल जीवन में मनोरंजन तो पैदा करता ही है, साथ-ही-साथ लोगों को जीवन में प्रतिस्पर्धी भी बनाता है। जिससे वह आगे चलकर अपने जीवन में कठिन से कठिन समय को आसानी से निपट ले हैं। 

खेल, मनुष्य निर्माण में बहुत महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। खेलकूद मनुष्य को मानसिक रूप से स्वस्थ और सतर्क बनाता है तथा शारीरिक रूप से मजबूत बनाता है। 

एक स्वस्थ सक्रिय और फुर्तीला शरीर पाने के लिए जीवन में किसी न किसी प्रकार का व्यायाम या फिर खेल को अपनाना चाहिए। हम सभी जानते हैं कि ‘स्वास्थ्य ही धन है!’

एक अच्छे स्वास्थ्य के लिए दिनचर्या में खेलकूद का शामिल होना आवश्यक है। स्वस्थ शरीर और स्वस्थ मस्तिष्क के लिए सभी को किसी न किसी प्रकार के खेलों में जरूर भाग लेना चाहिए।

खेल-खेलने सेे शरीर को फुर्ती मिलती है। जिससे हम अपने दिनभर के कार्य को खुुुश रहकर कर सकते हैं। खेल मानसिक शक्ति के वृद्धि में भी विकास करता है।

खेलकूद जीवन की बहुत सारी सीख सिखाता है। मानव के अंदर मानवीय गुणों का एहसास भी खेलकूद ही कराता है। धैर्य, साहस, सहनशीलता, आत्मविश्वास जैसे गुणों को खेलकूद के द्वारा ही मानव अपने अंदर अपना सकता है।

जीवन में शिक्षा के साथ-साथ खेलकूद में भी रुचि रखना उतना ही महत्वपूर्ण है। इसलिए माता-पिता के साथ-साथ शिक्षण संस्थानों की भी जिम्मेदारी बनती है कि, वह अपने यहां पढ़ने वाले विद्यार्थियों को शिक्षा के अलावा किसी एक शारीरिक गतिविधि में शामिल होने के लिए विद्यार्थियों को प्रोत्साहित करें।

विद्यार्थियों को खेल का महत्व के बारे में बताएं तथा उनमें खेलों के प्रति एक जुनून की भावना उत्पन्न करें। जिससे वे आगे चलकर खेल को बस एक खेल ही नहीं, बल्कि जीवन का हिस्सा समझते हुए आगे बढ़े और इसमें अपना करियर भी बनाए।

हमारे समाज में अब खेलों के प्रति लोगों का नजरिया बदला है। क्योंकि बहुत सारे लोग खेलों के द्वारा ही अपने नाम, पहचान, शोहरत बनाकर ऊंचे-ऊंचे पदों को हासिल कर चुके हैं।

खेलकूद जीवन में विपरीत परिस्थितियों से लड़ने के लिए मनुष्य को बलवान और मजबूत बनाता है तथा उनमें प्रतिस्पर्धा की भावना को भी जगाता है।

अब खेलकूद विद्यार्थियों के लिए एक कैरियर बन गया है जिसमें बच्चे खेलों को खेलकर आगे बढ़ते हुए अपना तथा देश का भी नाम रोशन कर रहे हैं।

खेलकूद करने से शरीर फिट रहता है, मोटापा नहीं होता, नींद अच्छी आती है, लोग तनाव मुक्त जीवन खुशहाल रूप से जी पाते हैं, खेलकूद शरीर को मजबूत और स्वस्थ बनाने के साथ-साथ अनुशासन की भावना को भी जगाता है।

अनुशासन का जीवन तथा खेल में बहुत अहम रोल (भूमिका) होता है। जीवन में अनुशासन के बिना कोई व्यक्ति आगे नहीं बढ़ सकता है।

अनुशासन जीवन को आनंदित बनाता है। इसलिए खेलों के महत्व को समझते हुए जीवन में खेलों को सार्थक रूप से अपनाना चाहिए।

जो विद्यार्थी दिन भर पढ़ाई में लगे रहते हैं उनका शारीरिक विकास सही तरीके से नहीं हो पाता। इसलिए जीवन में सभी चीजों का समन्वय बनाते हुए आगे बढ़ना चाहिए। तथा मानसिक विकास के लिए पढ़ाई के साथ-साथ खेलो को भी अपनाना चाहिए।


Khelo Ka Mahatva पर निबंध 600 Words

Khelo Ka Mahatva Par Nibandh 600 Shabd
Khelo Ka Mahatva Par Nibandh 600 Shabd

मनुष्य के जीवन में एक अच्छा स्वास्थ्य बहुत मायने रखता है। एक अच्छे स्वस्थ शरीर में ही स्वस्थ मस्तिष्क का निवास होता है। स्वस्थ शरीर पूरी तरह रोगों से दूर रहता है।

खेल, जीवन को उत्साह, ऊर्जा, और ताज़गी से भरपूर कर देता है।खेलकूद जीवन के मानसिक बोझ को बहुत हद तक दूर कर देता है। साथ-ही-साथ खेलकूद करने से शारीरिक थकान दूर हो जाती है और खेल कूद से शरीर फिट रहता है।

खेलकूद का जीवन में महत्व:

खेलकूद का जीवन में बड़ा महत्व है। खेलकूद लोगों की व्यक्तिगत विकास में महत्वपूर्ण भूमिका अदा करता है । खेलों में सभी को रुचि लेनी चाहिए क्योंकि, खेल जीवन को संपन्न तथा खुशहाल बनाता है।

खेल व्यक्तिगत, सामाजिक और राष्ट्रीय विकास में भी अपनी भूमिका को अदा करता है। खेल खेलने से मानव तनाव मुक्त रहते हुए स्वस्थ रहता है। और खुशहाल जीवन जी पाता है।

खेल और व्यायाम जीवन में उतना ही आवश्यक है जितना पीने का पानी। खेलकूद करने से मानसिक क्षमता का विकास तो होता ही है, साथ-साथ शारीरिक रूप से भी मनुष्य मजबूत बनता है तथा उनमें चुस्ती स्फूर्ति आती हैं।

प्रतिदिन शारीरिक गतिविधियों में भाग लेने वाले लोग विभिन्न प्रकार की बीमारियों से भी दूर रहते हैं। वे समय के महत्व को भी समझ पाते हैं। तथा अनुशासन के साथ अपना जीवन जीते हैं।

खेल जीवन की बहुत सारी लड़ाई लड़ने के लिए भी सिखाता है। खेल स्वाभिमान की भावना भी मनुष्य के अंदर जगाता है तथा जीवन के विभिन्न कदमों पर कैसे प्रतिस्पर्धा करना है? वह भी सिखाता है।

खेलकूद जीवन में छोटी-छोटी चोटों से उभर कर आगे बढ़ने की सीख को भी सिखाता है। खेल मनुष्य के शारीरिक, मानसिक विकास के साथ-साथ उनमें उत्साह की भावना को भी जगाता है।

खेल में कैरियर:

बहुत से लोगों का सोचना है कि खेलकूद जीवन को खराब कर देता है। खेलों के द्वारा कैरियर नहीं बनाया जा सकता है। परंतु आज के समय में यह सोचना बिल्कुल गलत है।

खेल ना सिर्फ आज जीवन का एक हिस्सा बन गया है बल्कि खेलों में कैरियर के भी बहुत सारे ऑप्शन खुले हुए हैं। जो खेलों में रुचि रखते हैं वह अच्छे प्रदर्शन के दम पर आज अपना एक मुकाम हासिल कर चुके हैं और करते जा रहे है।

हमारे ही देश में खेलों की बात करें तो बहुत सारे खेल खेले जाते हैं- क्रिकेट, फुटबॉल, टेनिस, बैडमिंटन, आदि खेलो में भारत के बच्चे-बच्चे निकल कर अपना नाम तो रोशन करते हैं साथ-ही-साथ देश का भी नाम भी विश्व पटल पर रोशन करते हैं।

खेलकूद से जुड़े ज्यादातर लोग हमेशा फिट और तंदुरुस्त रहते हैं। खेलकूद के प्रोत्साहन के लिए सभी स्कूल कॉलेजों में समय-समय पर प्रतियोगिता का आयोजन करना चाहिए और खेलकूद में भाग लेने वाले बच्चों को प्रोत्साहन राशि तथा सर्टिफिकेट देना चाहिए।

खेलकूद से जीवन में लाभ:

  1. खेलकूद मनुष्य को बीमारियों से दूर रखते हुए स्वस्थ और तंदुरुस्त रखने में सहायता करता है।
  2. खेलकूद मनुष्य के शारीरिक विकास में सहायक होता है।
  3. खेलकूद मनुष्य के बौद्धिक विकास में वृद्धि करता है।
  4. खेलकूद या शारीरिक गतिविधि में भाग लेने वालों के अंदर धैर्य, साहस, सहनशीलता, आत्मविश्वास, आत्मनिर्भरता, स्वाभिमान जैसे मानवीय गुणों का विकास होता है।
  5. खेलकूद मनुष्य को अनुशासन के साथ-साथ समय के महत्व को भी बताता है।
  6. खेल मनुष्य में चुस्ती फुर्ती के साथ-साथ नई ऊर्जा प्रदान करता है।
  7. खेलकूद करने वाले बच्चों में टीम की भावना जागती हैं।
  8. खेलकूद करने से डिप्रेशन दूर रहता है।
  9. खेलकूद करने से मनुष्य के अंदर जीत का जज्बा प्रेरित होता है।
  10. खेलकूद बच्चों को टीवी, मोबाइल, इंटरनेट जैसी चीजों से दूर रखते हुए उन्हें प्रकृति को जानने और समझने का मौका देता है।

निष्कर्ष:

खेलकूद राष्ट्र निर्माण में अपनी महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। खेल खेलने से राष्ट्र के सभी लोग स्वस्थ और युवा रहते हैं। खेलकूद मनुष्य के जीवन से आलस्य को दूर रखते हुआ राष्ट्र की उन्नति में भी महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। और विकास में भी अपनी भूमिका निभाता है।

क्योंकि जब देश के ज्यादातर युवा तनाव मुक्त रहते हुए स्वस्थ रहते हुए एक खुशहाल जीवन जियेंगे तो, वे राष्ट्र के प्रति भी अपना योगदान अच्छे से दे पाएंगे।

खेलकूद करने वाले लोगों का जीवन खुशियों से भरा रहता है। खेलकूद से उन्हें जीवन में विभिन्न परिस्थितियों से लड़ने की भी सीख मिलती है। खेलकूद जीवन में मनोरंजन के साथ-साथ तंदुरुस्ती भी प्रदान करता है।

इसलिए सभी को स्वस्थ मस्तिष्क और स्वस्थ शरीर के लिए किसी न किसी प्रकार का शारीरिक गतिविधि व खेलकूद को अपने जीवन में अपनाकर एक स्वस्थ जीवन की ओर कदम बढ़ाना चाहिए

खेलों का महत्व निबंध पर अपनी प्रतिक्रिया दें👇


EssayToNibandh-funny-image

बेचारा नोबिता………इसको हमेशा Test में जीरो मिलता हैं। आप इसके जैसा मत बनना। Khelo Ka Mahatva को अच्छे से पढ़ना और Test में अच्छे नंबर लाना।😉


यह भी पढ़ें (संबंधित लेख और निबंध):
😊👉 Mera Priya Khel Nibandh
😊👉 Mera Priya Khel Kho Kho
😊👉 Mera Priya Khel Cricket


अंतिम शब्द:

मेरे प्यारे दोस्तों! मुझे पूरी उम्मीद हैं की मेरे द्वारा लिखा गया खेलों का महत्व Par Nibandh in Hindi आपको जरूर पसंद आया होगा।

आप इस खेलों का महत्व निबंध को अपने करीबी दोस्तों या रिश्तेदारों को जरूर शेयर कीजियेगा, जिनको इस निबंध की अति आवश्यकता हो।

मैंने अपनी पूरी कोशिश की हैं आपको एक बेहतर Khel Ka Mahatva Essay प्रदान करने की। और

अगर फिर भी मुझसे जाने-अनजाने में कोई गलती हो तो गई हैं तो माफ़ बुल्कुल मत करना। नीचे दिए Comment Box💬 में मुझे जरूर डाँटना😥 ताकि अगली बार में गलतीयाँ न करूं। 😊

हम अगली बार फिर मिलेंगे।

दुआओं में याद रखना!😊🙏

Leave a Comment