New Van Mahotsav Essay In Hindi 2022 | वन महोत्सव पर निबंध

वन महोत्सव पर निबंध आपके सामने प्रस्तुत किया गया है। इसमें वन महोत्सव से जुड़ी हुई हर एक बात आपसे साँझा की गई है।

Van Mahotsav Essay In Hindi
Van Mahotsav Essay In Hindi

EssayToNibandh.com पर आज हम Van Mahotsav Par Nibandh पढ़ेंगे। जो की अलग अलग शब्द सीमा के आधार पर लिखे गए हैं। आप Van Mahotsav Essay In Hindi को ध्यान से और मन लगाकर पढ़ें और समझें। वन महोत्सव पर निबंध को निम्न शब्द सीमा के आधार पर लिखा गया है-

Table of Contents

आइये! Van Mahotsav Essay In Hindi को अलग अलग शब्द सीमाओं के आधार पर पढ़ें।

नोट- यहां पर दिया गया वन महोत्सव पर निबंध कक्षा(For Class) 1, 2, 3, 4, 5, 6, 7, 8, 9, 10, 11, 12,(विद्यालय में पढ़ने वाले) विद्यार्थियों के साथ-साथ कॉलेज के विद्यार्थियों के लिए भी मान्य हैं।


Van Mahotsav Par Nibandh 80 Shabd ka

जिस प्रकार वन हमारे जीवन का एक अहम हिस्सा है, उसी प्रकार ‘वन महोत्सव‘ को भी हमें अपने जीवन का एक अहम हिस्सा बनाकर वन महोत्सव में अपनी भागीदारी अधिक से अधिक दिखानी चाहिए। तथा वन महोत्सव के दौरान अपने आसपास अधिक से अधिक पेड़-पौधों को लगाकर दूसरों को भी इसके प्रति जागरूक कर के वन महोत्सव में अपना योगदान दे सकते हैं। वन महोत्सव हर वर्ष जुलाई के प्रथम सप्ताह में पूरे देश भर में मनाया जाता है। ‘वन महोत्सव’ का विशेष महत्व होता है।


Van Mahotsav Essay In Hindi 100 Words

वन महोत्सव‘ हमारे लिए काफी महत्वपूर्ण है। क्योंकि, वन का मानव जीवन में काफी उपयोग है। वन मानव के अस्तित्व को धरती पर बनाए रखने के लिए काफी जरूरी होते हैं। वन मानव जीवन और प्रकृति के बीच संतुलन का काम करते हैं। वन ही धरती पर जीवन का आधार होते हैं। वन जीव-जंतुओं का आश्रय स्थान होते हैं।

वन से मनुष्य अपनी मूलभूत आवश्यकताओं की जरूरतों को पूरा कर पाते हैं, जिससे उनका धरती पर जीवन संभव हो पाता है। इसलिए हम सभी को वनों को बचाने की आवश्यकता है, जिससे प्रकृति का संतुलन भी बना रहे और धरती पर जीवन संभव बना रहे।


Van Mahotsav In Hindi Essay 150 Words

धरती पर जीवन का अस्तित्व वनों पर ही टिका हुआ है। जिस तरह धरती पर जीवन जीने के लिए जल और वायु की आवश्यकता होती है, उसी प्रकार वनों में मौजूद पेड़-पौधे भी जीवन के अस्तित्व को बनाए रखने में सहायक होते हैं। वनों के बिना हम सब जिंदा नहीं रह सकते हैं। ‘

वन महोत्सव’ हर साल जुलाई के पहले सप्ताह में वनों को बचाने के लिए मनाया जाता है। इसमें पूरे देश में तरह तरह के कार्यक्रमों को आयोजित कराया जाता है। विद्यालय, कॉलेज और व्यक्तिगत स्तर पर भी लोग वन महोत्सव को आगे बढ़ाते हैं, और वृक्षों को अधिक से अधिक लगाकर वनों को बचाने का प्रयास करते हैं।

हमारे आसपास अत्याधिक मात्रा में पेड़-पौधे होने से जीवन से तनाव दूर रहता है। तथा जीवन काफी सुख-शांति से व्यतीत होता है। पेड़-पौधे पूरे पारिस्थितिक तंत्र के लिए सहायक होते हैं। वनों का लाभ सिर्फ हमें नहीं बल्कि हमारी आने वाली पीढ़ी भी उठा सकती है। इसलिए हमें अधिक से अधिक पेड़ों को लगाना चाहिए।


Van Mahotsav In Hindi Nibandh 200 Shabdo me

प्रस्तावना

‘वन महोत्सव’ आज के समय में जरूरी भी है। ‘वन महोत्सव हर वर्ष जुलाई के पहले सप्ताह में मनाया जाता है।’ वन महोत्सव में हम सभी की भागीदारी बेहद आवश्यक है, जिससे प्रकृति और हमारे बीच का संबंध में अंतर पैदा ना हो।

वन महोत्सव

हम प्राचीन समय से ही प्रकृति से जुड़े हुए हैं। हम अपनी सभी आवश्यकताओं के लिए प्रकृति पर बहुत अधिक निर्भर रहते हैं। वन महोत्सव हम इंसानों के जीवन में बेहद महत्व रखता है। क्योंकि, जीवन का अस्तित्व वनों पर बहुत अधिक निर्भर करता है। यदि वन नहीं होंगे तो, धरती पर जीवन भी नहीं होगा, और ऐसे ही वनों को समाप्त किया गया तो एक दिन पृथ्वी पर से जीवन समाप्त हो जाएगा।

वन मानव जाति के सबसे सच्चे दोस्त होते हैं, उन से बड़ा हितैषी हमारे लिए कोई नहीं होता है। क्योंकि, हम मानव अपनी जीवन की आवश्यकताओं के लिए वनों के ही संसाधनों पर निर्भर रहते हैं। लेकिन मनुष्य अपने स्वार्थ में पड़कर वनों की अंधाधुंध कटाई कर रहे हैं, और अपना विकास कर रहे हैं। इसके दुष्परिणामों की चिंता किए बगैर।

निष्कर्ष

लेकिन हम यह भूल जाते है, कि अगर वन ही नहीं होंगे तो हमारा जीवन ही नहीं होगा। हम सांस कहां से लेंगे, हमें स्वच्छ वातावरण प्राप्त नहीं होगा तो हम जीवन कैसे जियेंगे?, इसलिए वन महोत्सव में हम सभी की भागीदारी बेहद जरूरी है। हम सभी को मिलकर ‘वन महोत्सव‘ को सफल बनाने का प्रयास करना चाहिए। वन महोत्सव के बारे में जितना हो सके उतना लोगों में जागरूकता फैलाएं।

वन महोत्सव पर निबंध
वन महोत्सव पर निबंध

Van Mahotsav Information In Hindi Nibandh 250 Shabd me

प्रस्तावना

हम सभी अपने जीवन में बहुत सारे उत्सव मनाते हैं। सभी ‘उत्सव’ उमंग और उत्साह के साथ मनाते हैं। हमारे जीवन में सभी उत्सव का अलग-अलग महत्व है।

वन महोत्सव कब मनाया जाता हैं?

वन महोत्सव प्रतिवर्ष जुलाई के पहले सप्ताह में मनाया जाता है। वन महोत्सव वृक्षों को लगाने का त्यौहार है। इस आंदोलन को भारत के कृषि मंत्री ‘डॉक्टर के. एम. मुंशी‘ ने वर्ष 1950 में शुरू किया था। क्योंकि, भारत प्राचीन समय से ही प्रकृति का पुजारी रहा है, और प्रकृति की सेवा और उनकी रक्षा करना हमारा धर्म रहा है। लगातार पर्यावरण का ह्रास किया जा रहा है। यह कहीं से भी एक सभ्य समाज की परिकल्पना नहीं है। क्योंकि, जीवन के अस्तित्व के लिए वनों का महत्व अत्यधिक है।

वन महोत्सव क्यों जरूरी है?

वन महोत्सव की शुरुआत ही पेड़ों की रक्षा करने के लिए की गई थी। आज के समय में जैसे-जैसे मानव विकास की ओर बढता जा रहा है, वह वनों के संसाधनों का अंधाधुंध उपयोग कर रहा है, उनकी कटाई कर रहा है। जिससे, पर्यावरण का संतुलन भी बिगड़ रहा है। साथ-साथ यह हमारे जीवन के लिए भी ठीक नहीं है। वन हमारे जीवन पर काफी सकारात्मक प्रभाव डालते हैं।

लेकिन वन की कमी मानव जीवन के लिए काफी नकारात्मक है। जीवन का अस्तित्व वनों पर ही टिका है। जिस, तरह से हमने अपनी लालसा में लगातार प्रकृति के साथ खिलवाड़ किया है, उसे असंतुलित किया हैं, वह एक दिन मानव के अस्तित्व को धरती से समाप्त कर देगा। वन महोत्सव मानव के जीवन में विशेष महत्व रख रहा है।

निष्कर्ष

‘वन महोत्सव’ में हम सभी की भागीदारी बहुत अहम हैं। हम सभी अपने अपने स्तर पर वन महोत्सव के प्रति जागरूकता फैला सकते हैं, और लोगों को भी वन महोत्सव के कार्यक्रम में शामिल होने के लिए प्रेरित कर के अधिक से अधिक ‘वृक्षों‘ को लगाकर प्रकृति के प्रति अपना योगदान दे सकते हैं।


Van Mahotsav Essay In Hindi 300 Words

प्रस्तावना

वन महोत्सव की शुरुआत वर्ष 1950 में डॉक्टर के. एम. मुंशी के द्वारा की गई, जो उस समय भारत के कृषि मंत्री थे। उन्होंने वन महोत्सव को एक उत्सव के तरीके से मनाने की अपील की। इस ‘वन महोत्सव दिवस’ पर उन्होंने कहा कि, 

वन महोत्सव हमारे समाज का एक अहम हिस्सा होना चाहिए।
 क्योंकि, वन ही हमारे जीवन का अस्तित्व होते हैं।

उन्होंने देश के हर आयु-वर्ग से आह्वान किया था, कि वह अधिक से अधिक पेड़ों को लगाए, उनकी देखभाल करें। इसलिए हर साल वन महोत्सव जुलाई के पहले सप्ताह में मनाया जाता है। उन्होंने लोगों को अधिक से अधिक पेड़ों को लगाने के लिए प्रोत्साहित किया।

वन महोत्सव की जरूरत क्यों पड़ी?

जैसे-जैसे मनुष्य औद्योगिकीकरण के युग में आगे बढ़ता जा रहा है, अपना विकास करने के चक्कर में वह प्राकृतिक संसाधनों का अपनी जरूरत से अधिक उपभोग कर रहा है, जिससे इनका दोहन हो रहा है। जनसंख्या विस्फोट के चलते मानव अपनी आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए, अपने आवास के लिए, पेड़-पौधों की अंधाधुंध कटाई कर रहा है। जिससे, पर्यावरण के साथ-साथ ‘जलवायु‘ भी बुरी तरह प्रभावित हुई है।

इन प्रभावों के कारण ग्लोबल वार्मिंग आज के समय में पूरे विश्व की एक वैश्विक समस्या है। जिसके, गंभीर परिणाम का सामना संपूर्ण मानव जाति के साथ-साथ धरती पर रहने वाले सभी जीवों को करना पड़ रहा है। बढ़ते प्रदूषण ने पर्यावरण को असंतुलित कर दिया है। क्योंकि, पेड़ों की कमी के कारण प्रदूषण काफी बढ़ता जा रहा है, जिसे वन महोत्सव में सभी की भागीदारी तय करके कम किया जा सकता है। वन महोत्सव को सभी लोगों को उत्साह और उमंग के साथ मनाना चाहिए।

निष्कर्ष

पेड़ है तो कल है!

इसका महत्व समझते हुए वन महोत्सव में अपनी भागीदारी दिखानी चाहिए और अधिक से अधिक पेड़ों को लगाकर पर्यावरण में के प्रति अपना योगदान देकर, धरती पर जीवन के अस्तित्व को बनाए रखना चाहिए।


वन महोत्सव पर निबंध 400 शब्दों का

प्रस्तावना

वन महोत्सव आज के समय में जरूरत बन गया है। जिस प्रकार लगातार पेड़ों की अंधाधुंध कटाई हो रही है, उसने मानव को सोचने पर मजबूर कर दिया है। पेड़ों की अंधाधुंध कटाई ने और पर्यावरण प्रदूषण ने धरती के वायुमंडल को असंतुलित कर दिया है, जिससे ग्लोबल वार्मिंग जैसी समस्याओं से विश्व के सभी लोगों को सामना करना पड़ रहा है।

उनके लिए यह एक चुनौती है, जिसे सब मिलकर ही कम कर सकते है। यह सब समस्या लगातार पेड़ों की घटती संख्या के कारण हो रहा है, क्योंकि हम अपने विकास के लिए प्रकृति को बहुत नुकसान पहुंचा रहे हैं, जिसके दुष्परिणाम प्रकृति आज दिखा रही हैं। अगर इसे नहीं रोका गया तो भविष्य में इसके विकराल परिणाम से हमें सामना करना पड़ेगा।

वन महोत्सव में अपना योगदान कैसे दे?

वन महोत्सव कब मनाते हैं?

वन महोत्सव हर वर्ष भारत में जुलाई के पहले सप्ताह में मनाया जाता है। वन महोत्सव के दौरान भारत में लाखों पेड़-पौधे को लगाया जाता है। वन महोत्सव आज के समय मे हमारे सबसे बड़े उद्देश्य में से होना चाहिए। क्योंकि, लगातार वनों की अंधाधुंध कटाई नेपर्यावरण का संतुलन बिगाड़ दिया है, और धरती के मौसम में बहुत बदलाव आ गया है।

जिसके, लिए वनों की कटाई की जिम्मेदार हैं, और इसे अधिक से अधिक पेड़-पौधों को लगाकर ही कम किया जा सकता है। वन महोत्सव के दौरान हम अपने आसपास अधिक से अधिक मात्रा में पेड़-पौधों को लगा सकते हैं, साफ-सफाई कर सकते हैं, ताकि वातावरण भी स्वच्छ बना रहे।

पेड़ों की देखभाल करने का प्रण ले सकते हैं। अपने साथ-साथ अपने घर के आस-पास अपने घर के सभी लोगों को वनों के महत्व के बारे में बता कर उन्हें भी इसके लिए प्रेरित कर सकते हैं, और वनों की कटाई के दुष्परिणाम के बारे में जागरूकता फैला कर अधिक से अधिक मात्रा में वन महोत्सव में योगदान दिया जा सकता है।

वनों का हमारे जीवन में क्या महत्व है?

इसके प्रति सभी को जागरूक करने की जरूरत है, जिससे भविष्य में भी धरती पर जीवन की कल्पना को संभव बनाया जा सके, और आने वाली पीढ़ी भी एक जीवंत वातावरण में सांस ले सकें।

निष्कर्ष

भगवान का वरदान हैं पेड़,
पर्यावरण की शान हैं पेड़,
हमारी सांस हैं पेड़,
फिर क्यों काट रहे हो पेड़?

हमारे जीवन में वृक्षों के महत्व को समझते हुए हमें वन महोत्सव में अधिक से अधिक वृक्षों को लगाकर उनकी देखभाल करनी चाहिए। ताकि हम भी पर्यावरण के प्रति अपना योगदान दे सकें। क्योंकि, पर्यावरण हमें बहुत कुछ देता हैं। जबकि हम उन्हें कुछ नहीं दे पाते बल्कि उनका दोहन ही करते चले जाते हैं।

ऐसे में वातावरण असंतुलित हो रहा है, और जीवन की संभावना धरती पर से खत्म होती जा रही है। जिसे, वातावरण को स्वच्छ रखकर और अधिक से अधिक पेड़-पौधों को लगाकर जीवन की संभावना को बनाए रखा जा सकता है।

Van Mahotsav Nibandh In Hindi 500 Shabdo me


प्रस्तावना

आओ मिलकर वृक्ष लगाएं वृक्ष की महिमा गाएं,
वन-महोत्सव आयोजन कर सबको यही सिखाएं।

वन महोत्सव हर वर्ष जुलाई के पहले सप्ताह में भारत में धूमधाम से मनाया जाता है ,पूरे उत्साह और उमंग के साथ। वन महोत्सव को वर्ष 1950 में भारत के तत्कालीन कृषि मंत्री डॉक्टर कन्हैयालाल माणिकलाल मुंशी जी ने शुरुआत की थी। वह कहते थे कि, 

जिस प्रकार प्रकृति हमारे सभी सुख-दुख में हमारे साथ होती है,
तो हमारा भी कर्तव्य बनता है कि हम उनकी रक्षा करें और अपना कर्तव्य उनके प्रति निभाए।

जैसे एक बच्चा अपनी मां के लिए चिंतित रहता है, उसकी हर खुशी को अपनी खुशी मानता है। उसे सब तरीके से खुश रखना चाहता है, वैसे ही हमारे लिए इस पृथ्वी की खुशी सबसे महत्वपूर्ण होनी चाहिये। पृथ्वी जब साफ-सुथरा, प्राकृतिक संसाधनों से भरपूर होगा, तब वातावरण खुश होता है। हम अधिक से अधिक पेड़ को लगाकर प्रकृति को खुश रख सकते हैं।

जितना हो सके उतना हमें पेड़-पौधों का रोपण करना चाहिए। इस विचार को आगे बढ़ाते हुए हर वर्ष यह महोत्सव पूरे देश में इस आशा के साथ मनाया जाता है, कि प्रत्येक नागरिक अपनी जिम्मेदारी को समझते हुए वृक्षों की कटाई नहीं बल्कि वृक्षों का रोपण करेगा।

स्कूली शिक्षा में वन महोत्सव

बच्चे राष्ट्र का भविष्य होते हैं। बच्चों से ही देश के विकास की कल्पना की जा सकती है, इसलिए वन महोत्सव के दौरान विद्यालय में, विश्वविद्यालयों में सभी छात्र-छात्राओं को ‘वन महोत्सव’ में शामिल होने के लिए प्रेरित करना चाहिए, उन्हें अधिक से अधिक के पौधों को लगाने के महत्व के बारे में बताना चाहिए। 

पेड़ों की रक्षा करने के लिए उन्हें प्रेरणा देना चाहिए। वन महोत्सव के दौरान सभी विश्वविद्यालयों में अधिक से अधिक पेड़ों को लगाया जाता है, जिसमें बच्चे और शिक्षकगण खासतौर पर शामिल होते हैं, और अधिक से अधिक पेड़-पौधों को लगाकर उनकी रक्षा करने का प्रण लेते हैं। विद्यालय में वन महोत्सव के दौरान निबंध, पेंटिंग, वार्तालाप, क्विज जैसी प्रतियोगिताओं का आयोजन करवाकर छात्रों को प्रोत्साहित करके भी इस मिशन को आगे बढ़ाया जा सकता है।

वन महोत्सव ना सिर्फ स्कूली छात्र-छात्राओं तक ही सीमित है, बल्कि यह गैर-सरकारी कार्यालय, सभी सरकारी कार्यालयों में भी पेड़-पौधों के लाभ एवं उसके महत्व के बारे में बता कर अपने आसपास के वातावरण में अधिक पेड़-पौधों को लगाया जा सकता है। वातावरण को स्वच्छ रखने की प्रेरणा ली जा सकती है।

वनों का जीवन में महत्व

वनों का मानव जीवन में बहुत महत्व रहा है। वनों ने ही मानव को विकास करने के लिए सारी सुख-सुविधाएँ प्रदान की हैं। वनों ने ही धरती पर जीवन की संभावना को बरकरार रखा है। लेकिन, मनुष्य में अपनी विकास की अंधी दौड़ में वनों की कटाई करना शुरू किया, जिससे पर्यावरण असंतुलित होना शुरू हो गया।

वन हमें ईंधन, भोजन, वायु, जानवरों के लिए चारा, गर्मी में ठंडी छाया, स्वच्छ वातावरण, प्राकृतिक सुंदरता से भरपूर प्रकृति का नज़ारा देते हैं। वन मिट्टी की गुणवत्ता को बनाए रखते हैं, भूमि का क्षरण रोकते हैं, और ना जाने क्या-क्या मनुष्य के जीवन में काम आते हैं।

निष्कर्ष

इस प्रकार हम सभी वन महोत्सव में अधिक से अधिक संख्या में शामिल होकर वन महोत्सव को सफल बनाने में अपना योगदान दे सकते हैं, और धरती पर जीवन को कायम रखने के लिए भी अधिक से अधिक पेड़ों को लगा कर, वातावरण को स्वच्छ रखकर प्रकृति के प्रति अपना योगदान देकर आने वाली पीढ़ी के लिए जीवन की संभावना को बरकरार रख सकते हैं।

Van Mahotsav Par Nibandh ki Video

वनमहोत्सव पर निबंध 600 शब्दों में

प्रस्तावना

वन से अपना जीवन, वन ही अपना प्राण है,
वन समितियों के माध्यम से, इन्हें बचाना आन है।

कुछ वर्षों में हमने अपने विकास के लिए, अपनी सुख-सुविधाओं के लिए जिस तरह प्रकृति के साथ खिलवाड़ किया है और वनों की अत्यधिक तरीके में कटाई की है, उससे वातावरण का संतुलन पूरी तरह बिगड़ गया है।

जिसके परिणाम ‘ग्लोबल वार्मिंग’ और बढ़ते प्रदूषण के रूप में हम सभी को धरती पर देखने को मिल रहे हैं। धरती का तापमान में दिन प्रतिदिन बढ़ोतरी होती जा रही है, प्रदूषण फैलने के कारण तरह-तरह की बीमारियों ने धरती को अपनी जकड़ में ले लिया है।

यह समस्या आज के समय में वैश्विक विषय बन गया है। इस समस्या को अधिक से अधिक पेड़-पौधों को लगाकर ही कम किया जा सकता है।

इसलिए, वन महोत्सव में हम सभी की भागीदारी तय होनी बहुत आवश्यक है। हम सभी वन महोत्सव में शामिल होकर इस महोत्सव को सफल बनाकर अपनी ही धरती पर जीवन की कल्पना को संभव रख सकते हैं। वन महोत्सव जुलाई के पहले सप्ताह में पूरे उत्साह के साथ देश भर में मनाया जाता है।

वनों की उपासना हमारी संस्कृति

प्राचीन समय से ही वनों पर मानव जीवन बहुत आश्रित रहा है। वनों से ही उसे अपने विकास करने के लिए संसाधनों की प्राप्ति हुई है, जिससे आज मानव आधुनिकीकरण के युग में सुख सुविधाओं वाला जीवन व्यतीत कर रहा है।

लेकिन, हमारे समाज में प्राचीन समय से ही प्रकृति की उपासना की जाती रही है। हमारे समाज में वनों की रक्षा करने की परंपरा रही है। हमारी संस्कृति में पेड़-पौधों की पूजा-अर्चना की जाती है, उनको महत्व दिया जाता है। क्योंकि, पेड़-पौधे हमारे जीवन का एक अहम हिस्सा होते हैं।

पेड़-पौधों की टहनियों, पत्तों का हमारे यहां पूजा पाठ में इस्तेमाल किया जाता है। उनका विशेष महत्व होता है। लेकिन, औद्योगिकीकरण की इस अंधी दौड़ ने हम मानव जाति को ही अंधा बना दिया और हम उसी प्रकृति का विनाश करने के कारक बन गए।

वनों के विनाश के कारण

वनों के विनाश के कारण बहुत सारे हैं। मानव जाति ने ही वनों के विनाश करने में बड़ी भूमिका निभाई हैं। अपनी सुख सुविधाओं के लिए, अपने आवास को बनाने के लिए, अपने व्यापार के लिए, बड़ी-बड़ी इमारतों कल कारखानों को बनाने के लिए मानव ने जंगलों की अंधाधुंध कटाई की है। विकास के नाम पर उसने प्रकृति के संसाधनों का दोहन किया। हरे-भरे जंगलों में आग लगाई, जिससे वनों की संख्या कम होती गई और वातावरण असंतुलित होता गया।

वनों की कटाई के प्रभाव

धरती पर लगातार वनों की कटाई के गंभीर परिणाम बढ़ते ही जा रहे हैं। ग्लोबल वार्मिंग की समस्या आज विश्व के लिए चुनौती बनी हुई है। वनों का संवर्धन और उनका संरक्षण इंसानों के लिए बेहद जरूरी हो गया है। लेकिन, हम ही उसकी ओर ध्यान नहीं दे पा रहे हैं।

जहां पहले घने-घने वन हुआ करते थे, वहां आज आधुनिकीकरण और औद्योगिकीकरण के नाम पर कल-कारखाने, बड़ी-बड़ी इमारतें और मॉल हैं। अपनी विलासिता के लिए हमने जिस तरह प्राकृतिक संसाधनों का दोहन किया उसका वातावरण पर बहुत ही नकारात्मक प्रभाव पड़ा है।

धरती का तापमान आज बढ़ते ही जा रहा है। तापमान बढ़ने के कारण ग्लेशियर पिघल रहे हैं, और समुद्र का जल स्तर भी बढ़ते जा रहा है। पेड़ों की कटाई ने धरती पर सूखा, अकाल जैसी गंभीर समस्या उत्पन्न कर दी हैं। वर्षा बहुत कम हो रही है, जिससे धरती पर पानी की समस्या से भी सभी को जूझना पड़ रहा है।

बढ़ती जनसंख्या ने भी पेड़ों की कटाई में बड़ी भूमिका निभाई है। वनों की कटाई के कारण सभी जीवों का आश्रय स्थान समाप्त होते जा रहे हैं, जिससे वे विलुप्त होते जा रहे हैं। उनके विलुप्त होने के कारण धरती का पारिस्थितिक तंत्र पूरी तरह बिगड़ रहा है, जो धरती पर जीवन के लिए भी कहीं से भी सकारात्मक नहीं है।

निष्कर्ष

पेड़ों की कटाई के कारण मृदा का क्षरण भी बहुत अधिक हो रहा है, वैश्विक तापमान में हो रही लगातार वृद्धि के कारण तमाम तरह की आपदाएँ आज धरती पर आम हो गई है। अगर ऐसे ही चलता गया तो धरती पर जीवन की परिकल्पना असंभव हो जाएगी, क्योंकि धरती अपने विनाश की ओर बढ़ते चले जा रहा है।

इस कारण ‘वन महोत्सव‘ में हम सभी की भागीदारी बेहद जरूरी है। हम सभी ज्यादा से ज्यादा मात्रा में वन महोत्सव में शामिल होकर अधिक से अधिक संख्या में पेड़ों को लगाकर प्रकृति के प्रति अपनी जिम्मेदारी निभा कर आने वाली पीढ़ी के लिए भी धरती पर जीवन की संभावना को बरकरार रख सकते हैं, और एक स्वच्छ वातावरण की परिकल्पना को संभव कर सकते हैं।

वन महोत्सव निबंध पर अपनी प्रतिक्रिया दीजिये👇


EssayToNibandh-funny-image

बेचारा नोबिता………इसको हमेशा Test में जीरो मिलता हैं। आप इसके जैसा मत बनना। Van Mahotsav Essay In Hindi को अच्छे से पढ़ना और Test में अच्छे नंबर लाना।😉

अंतिम शब्द

मेरे प्यारे दोस्तों! मुझे पूरी उम्मीद हैं की मेरे द्वारा लिखा गया वन महोत्सव पर निबंध आपको जरूर पसंद आया होगा। आप इस Van Mahotsav Par Nibandh को अपने करीबी दोस्तों या रिश्तेदारों को ज़रूर शेयर कीजियेगा, जिनको इस निबंध की अति आवश्यकता हो।

मैंने अपनी पूरी कोशिश की हैं आपको एक बेहतर Van Mahotsav Essay In Hindi प्रदान करने की। और अगर फिर भी मुझसे जाने-अनजाने में कोई गलती हो तो गई हैं तो माफ़ बुल्कुल मत करना। नीचे दिए Comment Box💬 में मुझे जरूर डाँटना😥 ताकि अगली बार में गलतीयाँ न करूं। 😊

हम अगली बार फिर मिलेंगे, दुआओं में याद रखना!😊🙏

Leave a Comment